IIT-BHU Btech hindi : इंजीनियरिंग की पढ़ाई हिंदी में कराएगा संस्थान
देश | उत्तर प्रदेश | ताजा पोस्ट| नया इंडिया| IIT-BHU Btech hindi : इंजीनियरिंग की पढ़ाई हिंदी में कराएगा संस्थान

IIT-BHU : इंजीनियरिंग की पढ़ाई हिंदी में कराएगा संस्थान , देश में पहली बार होगा ऐसा…

IIT-BHU Btech hindi :

नई दिल्ली | IIT-BHU Btech hindi : देश में इंजीनियरिंग की पढ़ाई के लिए अंग्रेजी भाषा पर कमांड जरूरी माना जाता है. कई बार देखा जाता है कि हिंदी मीडियम से पढ़ी छात्र छात्राओं को इंजीनियरिंग करते समय परेशानियों का सामना करना पड़ता है. इन परेशानियों को देखते हुए IIT-BHU ने एक नई पहल शुरू की है. BHU अपने आप में एक बड़ा संस्थान है. लेकिन इस बार जो बीएचयू करने वाला है इस बारे में शायद ही किसी ने सोचा हो. जानकारी के अनुसार IIT-BHU देश का पहला ऐसा इंजीनियरिंग कॉलेज बनने जा रहा है . जहां Btech की पढ़ाई अंग्रेजी में नहीं बल्कि हिंदी में कराई जाएगी. इस संबंध में भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान काशी हिंदू विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित हिंदी पखवाड़े के दौरान यह जानकारी दी गई.

IIT-BHU Btech hindi :

प्रतिभाशाली होने के बाद भी होती थी परेशानी

IIT-BHU Btech hindi : पखवाड़े के उद्घाटन समारोह के दौरान संस्थान के निदेशक और राजभाषा समिति के अध्यक्ष प्रोफेसर प्रमोद कुमार जैन ने कहा कि शिक्षा का माध्यम मातृभाषा होना चाहिए. प्रोफेसर जैन ने कहा कि देश भर से शिकायतें मिलती थी कि प्रतिभाशाली होने के बाद भी छात्र छात्राओं को भाषा के कारण परेशानियां उठानी पड़ती है. उन्होंने कहा कि हमारा काम इंजीनियरिंग को बढ़ावा देना है वह भी मातृ भाषा पर. उन्होंने कहा कि हिंदी भाषा पर कार्य करने के लिए मैं सभी अध्यापकों को धन्यवाद देता हूं. इस संबंध में लोगों को जागरूक करने की अपील करता हूं.

इसे भी पढ़ें – T20 World Cup 2021 : Taliban को Cricket पसंद है, Worldcup में उतरेगी पुरुष टीम, महिला खिलाड़ियों पर…

पिछले साल हुआ था विचार

IIT-BHU Btech hindi : बता दें कि पिछले साल शिक्षा मंत्रालय में कई कोर्स हिंदी में कराने की इच्छा जताई थी. शिक्षा मंत्रालय की इस इच्छा को आईआईटी बीएचयू ने साकार कर दिखाया. बताया जा रहा है कि कोरोना के कारण इस योजना पर उतनी तेजी से कार्य नहीं हो सका. अब कोरोना के मामले कम हुए हैं तो संस्थान ने एक विषय पर अपनी सहमति दे दी है.

इसे भी पढ़ें- Digital Ishq पड़ रहा है महंगा, एक किस के लिए चुकाने पड़े 30 हजार…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
ताकि काम मानवीय बने
ताकि काम मानवीय बने