Corona Alert: साबरमती नदी के पानी में मिला कोरोना का वायरस, जांच के लिए गये सभी सैंपलों में हुई पुष्टि - Naya India
कोविड-19 अपडेटस | देश| नया इंडिया|

Corona Alert: साबरमती नदी के पानी में मिला कोरोना का वायरस, जांच के लिए गये सभी सैंपलों में हुई पुष्टि

अहमदाबाद | देश भर में कोरोना के नए मामलों में लगातार कमी आ रही है. घटते मामलों के बाद भी आईसीएमआर और देश के चिकित्सकों द्वारा कोरोना की गाइडलाइन का पालन करने की अपील की जा रही है. इसके साथ ही कोरोना से संबंधित नए मामलों पर रोजाना को नए खुलासे हो रहे हैं. ऐसा ही एक मामला गुजरात से सामने आया है. जानकारी के अनुसार साबरमती नदी के पानी से लगातार कोरोना वायरस की पुष्टि हो रही है. इस खुलासे के बाद से गुजरात ही नहीं पूरे देश में हड़कंप मच गया. बता दें कि साबरमती नदी गुजरात के लिए काफी महत्वपूर्ण मानी जाती रही है. फसलों के उत्पादन से लेकर आम लोगों के पीने के लिए भी इसके जल का प्रयोग किया जाता है. लेकिन नदी के पानी में कोरोना का वायरस मिलना सचमुच चिंतनीय है.

वैज्ञानिकों की बढ़ गई चिंता

इस संबंध में मिली जानकारी के अनुसार वैज्ञानिकों और चिकित्सकों की टीम ने अहमदाबाद के बीचो-बीच से निकलने वाली साबरमती नदी के पानी के कई सैंपल लिए थे. इन सभी सैंपलों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है. सबसे बड़े आश्चर्य की बात है कि साबरमती नदी के अलावा यहां के 2 बड़े तालाब केवी जब सैंपल लिए गए थे उसमें कोरोना वायरस के लक्षण पाए गए. बता दें कि साबरमती से पहले गंगा नदी से जुड़े अलग-अलग सीवेज में भी कोरोना वायरस पाया गया था. अब वैज्ञानिकों की चिंता बढ़ गई है क्योंकि प्राकृतिक जल में भी कोरोना के लक्षण पाए जाने लगे हैं.

इसे भी पढ़ें- Crime Alert और सावधान इंडिया में काम कर चुकी दो एक्ट्रेसज को पुलिस ने चोरी के आरोप में किया गिरफ्तार

IIT गांधीनगर ने की पुष्टि

साबरमती नदी के पानी से कोरोना संक्रमण पाए जाने की खबर की पुष्टि आईआईटी गांधीनगर ने भी की है. इस संबंध में जानकारी देते हुए प्रोफेसर मनीष ने कहा कि प्रयोग के लिए पानी के सैंपल लिए गए थे लेकिन पानी में कोरोना वायरस की मौजूदगी का पता चलना वास्तव में खतरनाक है. मनीष ने बताया कि 3 सितंबर से 29 दिसंबर 2020 तक हर सप्ताह पानी के सैंपल लिए गए थे. उन्होंने बताया कि सैंपल लेने के बाद जब लैब में इसकी जांच की गई तो पानी में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है. यह बता दें कि शोधकर्ताओं का मानना है कि कोरोना के जीवाणु पानी में भी जीवित रह सकते हैं इसीलिए देश भर के प्राकृतिक जल स्रोतों की जांच की जानी चाहिए.

इसे भी पढ़ें-  Petrol Diesel की कीमतों में फिर उछाल, आम लोगों के घर का बिगड़ा बजट, जानें आज भाव

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
चढूनी खेमा 10 सीटों पर लड़ेगा
चढूनी खेमा 10 सीटों पर लड़ेगा