Night Curfew RTI Govt : RTI में केंद्र सरकार के पूछा- नाइट कर्फ्यू से कैसे फायदा...
देश | मध्य प्रदेश| नया इंडिया| Night Curfew RTI Govt : RTI में केंद्र सरकार के पूछा- नाइट कर्फ्यू से कैसे फायदा...

RTI में केंद्र सरकार के पूछा- नाइट कर्फ्यू से कैसे होता है फायदा, ये किसका विचार था… नहीं मिला जवाब

Night Curfew RTI Govt :

इंदौर | Night Curfew RTI Govt : कोरोना का बढ़ते मामलाों को देखते हुए कई प्रदेशों में कड़े कदम उठाते हुए नाइट कफर्यू लगया गया है.अब ताजा मामला मध्य प्रदेश के इंदौर से जुड़ा है. यहां रहने वाले एक युवक ने देश में कोविड-19 का प्रसार रोकने में रात के कर्फ्यू की उपयोगिता को लेकर सूचना का अधिकार (RTI) कानून के तहत सवाल पूछे थे. पूछे गए सवालों के जवाब देने से केंद्रीय गृह मंत्रालय ने प्रावधानों का हवाला देते हुए इनकार कर दिया है. इस संबंध में मध्यप्रदेश के नीमच निवासी RTI कार्यकर्ता चंद्रशेखर गौड़ ने बताया कि महामारी का प्रसार रोकने में रात के कर्फ्यू की उपयोगिता को लेकर मेरी RTI अर्जी के जवाब में गृह मंत्रालय का मत है कि इसमें पूछे गए सवाल स्पष्टीकरण मांगे जाने की श्रेणी में आते हैं. RTI कानून के प्रावधानों के तहत आवेदक को किसी विषय पर सरकार की ओर से स्पष्टीकरण नहीं दिया जा सकता.

Night Curfew RTI Govt :

क्या-क्या पूछे गये थे सवाल

Night Curfew RTI Govt : गौड़ ने RTI कानून के तहत गृह मंत्रालय से पूछा था कि रात का कर्फ्यू कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने में किस तरह मददगार साबित होता है. इसके साथ ही यह भी पूछा गया था कि इस सिलसिले में सरकार के पास क्या कोई वैज्ञानिक आधार है? RTI कार्यकर्ता ने गृह मंत्रालय से यह भी जानना चाहा था कि महामारी से निपटने के लिए रात का कर्फ्यू लगाने का विचार आखिर किसका था और यह विचार कहां से लिया गया था ?

इसे भी पढें- Ind Vs SA Live : फिर फेल हुए रहाणे, सोशल मीडिया में आई मीम्स की बाढ़…

ये आया जवाब

Night Curfew RTI Govt : RTI में पूछे गये सवालों पर केंद्रीय गृह मंत्रालय ने गौड़ की अर्जी का निपटारा करते हुए जवाब दिया. केंद्र सरकार की ओर से कहा गया कि चाही गई सूचना स्पष्टीकरण या व्याख्या के अनुरोध की प्रकृति की है. सनद रहे कि किसी विषय पर स्पष्टीकरण दिए जाने या व्याख्या किए जाने या तर्क-वितर्क किए जाने को आरटीआई कानून की धारा दो (एफ) के तहत सूचना की परिभाषा में शामिल नहीं किया गया है.

इसे भी पढें- Madhya Pradesh : व्यापारी को था कचरा जमा करने का शौक, पत्नी ने की सीएम हेल्पलाइन में शिकायत तो निकला इतना कचरा कि…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
नृत्य का अप्रतिम पुजारी : पंडित बिरजू महाराज
नृत्य का अप्रतिम पुजारी : पंडित बिरजू महाराज