nayaindia Amit Shah Tour Jammu-Kashmir अमित शाह 3 दिनों के जम्मू-कश्मीर दौरे पर
देश | जम्मू-कश्मीर| नया इंडिया| Amit Shah Tour Jammu-Kashmir अमित शाह 3 दिनों के जम्मू-कश्मीर दौरे पर

अमित शाह 3 दिनों के जम्मू-कश्मीर दौरे पर

श्रीनगर। केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह (Amit Shah) 3 अक्टूबर को जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) के अपने तीन दिवसीय व्यस्त कार्यक्रम की शुरुआत करेंगे। अधिकारियों ने कहा कि केंद्र शासित प्रदेश की अपनी यात्रा के दौरान केंद्रीय गृहमंत्री का उनके आगे व्यस्त कार्यक्रम है। केंद्रीय गृहमंत्री कल (Monday) शाम करीब 5 बजे जम्मू पहुंचेंगे। वह शाम को गुर्जरों/बकरवालों और युवा राजपूत सभा के प्रतिनिधिमंडलों से मुलाकात करेंगे। फिर 4 और 5 अक्टूबर को उनके कार्यक्रम में रियासी जिले के माता वैष्णो देवी (Mata Vaishno Devi) तीर्थ में पूजा-अर्चना करना शामिल है। अमित शाह कई विकास कार्यो की नींव रखेंगे और राजौरी (Rajouri), श्रीनगर (Srinagar) और बारामूला (Baramulla) जिलों का भी दौरा करेंगे, जहां वह विभिन्न प्रतिनिधिमंडलों से मिलेंगे। अधिकारियों ने बताया कि गृहमंत्री जिन स्थानों का दौरा करने जा रहे हैं, वहां सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त किए गए हैं।

अधिकारियों ने कहा चार अक्टूबर की सुबह माता वैष्णो देवी मंदिर में दर्शन करने के बाद वह राजौरी (Rajouri) के लिए उड़ान भरेंगे, जहां वह एक जनसभा को संबोधित करेंगे। शाह अपने राजौरी दौरे के दौरान पहाड़ी समुदाय को अनुसूचित जनजाति (ST) का दर्जा देने की घोषणा कर सकते हैं। जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) के राजौरी, पुंछ, बारामूला और हंदवाड़ा जिलों में पहाड़ी समुदाय की बड़ी आबादी है। जम्मू लौटने पर वह श्रीनगर में शेर-ए-कश्मीर इंटरनेशनल कन्वेंशन कॉम्प्लेक्स (SKICC) की तर्ज पर जम्मू कन्वेंशन कॉम्प्लेक्स (Jammu Convention Complex) समेत कई विकास कार्यो की नींव रखेंगे। भाजपा (BJP) के वरिष्ठ नेताओं का एक प्रतिनिधिमंडल उनसे जम्मू में मुलाकात करेगा, जहां केंद्र शासित प्रदेश की राजनीतिक स्थिति और पार्टी मामलों पर चर्चा की जाएगी। वह 4 अक्टूबर को शाम करीब 5 बजे श्रीनगर (Srinagar) के लिए उड़ान भरेंगे। वहीं 5 अक्टूबर को गृह मंत्री बारामूला (Baramulla) में एक जनसभा को संबोधित करेंगे और घाटी में कई विकास कार्यो की नींव रखेंगे।

श्रीनगर (Srinagar) में शाह दोपहर में उपराज्यपाल मनोज सिन्हा (Manoj Sinha) के साथ एक उच्चस्तरीय सुरक्षा समीक्षा बैठक की भी अध्यक्षता करेंगे। बैठक में नागरिक प्रशासन, पुलिस, केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों (CAPF) और जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) और केंद्र की खुफिया एजेंसियों के वरिष्ठ अधिकारी शामिल होंगे। वह 5 अक्टूबर को शाम को नई दिल्ली लौटेंगे। फिर राजौरी और बारामूला में जनसभाओं को शाह का संबोधन भाजपा (BJP) के लिए राजनीतिक रूप से महत्वपूर्ण है। हालांकि, जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) में 2022 में विधानसभा चुनाव (Assembly Elections) की कोई संभावना नहीं है। अपनी ओर से, भाजपा ने जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) के अंतिम डोगरा राजा महाराजा हरि सिंह (Hari Singh) के जन्म के उपलक्ष्य में 23 सितंबर को सार्वजनिक अवकाश की घोषणा के साथ दो महत्वपूर्ण प्रतिबद्धताओं को पहले ही पूरा कर लिया है। भाजपा ने भी पहली बार एक गुर्जर गुलाम अली खटाना (Ghulam Ali Khatana) को राज्यसभा के लिए नामित किया और संसद में गुर्जर/बकरवाल समुदाय को प्रतिनिधित्व दिया।

चुनाव आयोग 25 नवंबर को जम्मू-कश्मीर की अंतिम मतदाता सूची प्रकाशित करेगा। इसके बाद अन्य समयबद्ध चुनावी प्रक्रियाएं, जैसे नामांकनपत्र दाखिल करना, उनकी जांच, उम्मीदवारी वापस लेने का समय और चुनाव अभियान की अवधि का पालन करना होगा। दिसंबर के मध्य तक जम्मू-कश्मीर में कड़ाके की सर्दी शुरू हो जाती है, जिससे महीने के उत्तरार्ध में चुनाव कराना असंभव हो जाता है। पहले जम्मू-कश्मीर में अप्रैल-मई 2023 में विधानसभा चुनाव (Assembly Elections) हो सकते हैं और धारा 370 और 35ए के निरस्त होने के बाद लोकतांत्रिक प्रक्रिया में बड़े पैमाने पर लोगों की भागीदारी होने की उम्मीद है। (आईएएनएस)

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

7 − 1 =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
पूर्व राष्ट्रपति राजेंद्र प्रसाद एवं अमर शहीद अल्बर्ट एक्का को श्रद्धांजलि
पूर्व राष्ट्रपति राजेंद्र प्रसाद एवं अमर शहीद अल्बर्ट एक्का को श्रद्धांजलि