गिलानी ने हुर्रियत से इस्तीफा दिया

श्रीनगर।  ऑल पार्टी हुर्रियत कांफ्रेंस के कट्टरपंथी धड़े के नेता सैयद अली शाह गिलानी ने इस संगठन से इस्तीफा दे दिया है। एक ऑडियो मैसेज में उन्होंने कहा- हुर्रियत कांफ्रेंस के मौजूदा हालात को देखते हुए मैंने इसके सभी स्वरूपों से अलग होने का फैसला किया है। इसके बारे में हुर्रियत के सारे लोगों को विस्तार से चिट्ठी लिखकर सूचना दे दी गई है। नब्बे साल के गिलानी पार्टी के आजीवन अध्यक्ष थे।  गिलानी की सेहत पिछले कुछ महीनों से ठीक नहीं चल रही।

गौरतलब है कि हुर्रियत कांफ्रेंस कश्मीर में सक्रिय सभी छोटे-बड़े अलगाववादी संगठनों का मंच है। जुलाई 1993 को कश्मीर घाटी में हुर्रियत कांफ्रेंस की स्थापना हुई थी। इसका काम घाटी में अलगाववादी आंदोलन को बढ़ाना था। आपसी मतभेदों की वजह से गिलानी 2003 में हुर्रियत से अलग हो गए थे। उस समय हुर्रियत कांफ्रेंस दो हिस्सों में बंट गया था। कट्टरपंथी खेमे के अध्यक्ष गिलानी चुने गए थे तो मीरवाइज उमर फारूक को दूसरे खेमे का अध्यक्ष चुना गया था। उसे उदारवादी माना जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares