nayaindia Jashn-e-Kashmir Festival Concludes in Srinagar श्रीनगर में 'जश्न-ए-कश्मीर उत्सव का समापन
kishori-yojna
देश | जम्मू-कश्मीर| नया इंडिया| Jashn-e-Kashmir Festival Concludes in Srinagar श्रीनगर में 'जश्न-ए-कश्मीर उत्सव का समापन

श्रीनगर में ‘जश्न-ए-कश्मीर उत्सव का समापन

Naya J&K: Cultural shows replace sound of bullets; artistes become brand ambassadors(twitter)

श्रीनगर। श्रीनगर (Srinagar) के टैगोर हॉल (Tagore Hall) में बुधवार को ‘जश्न-ए-कश्मीर’ (Jashn-e-Kashmir) उत्सव का समापन हुआ। महोत्सव (Festival) का आयोजन शाह कलंदर लोक रंगमंच (Shah Qalandar Folk Theater) और कला, संस्कृति एवं भाषा अकादमी के सहयोग से किया गया। समापन समारोह के दौरान, जम्मू-कश्मीर वक्फ बोर्ड (Jammu and Kashmir Waqf Board) के अध्यक्ष डेराखशन अंद्राबी (Derakhshan Andrabi) ने विशेष अतिथि के रूप में भाग लिया, जबकि कला और साहित्य से जुड़े व्यक्तित्व बड़ी संख्या में जुटे। इस उत्सव में कई स्कूली बच्चों ने भी भाग लिया।

25 अक्टूबर से शुरू हुए इस सांस्कृतिक उत्सव में 2,000 कलाकारों और 300 से अधिक स्कूली बच्चों ने अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन किया। कश्मीर के विभिन्न जिलों में कार्यक्रम आयोजित किए गए। इस अवसर पर अंद्राबी ने कहा कि इस तरह के सांस्कृतिक उत्सव बहुत महत्वपूर्ण हैं, क्योंकि वे न केवल कश्मीर की संस्कृति और सभ्यता को विकसित करते हैं, बल्कि उभरते कलाकारों को अपनी कला दिखाने का मौका भी देते हैं। उन्होंने महोत्सव के आयोजन के लिए आयोजकों को बधाई दी और कहा कि वे ऐसे आयोजनों को हमेशा पूरा सहयोग देंगे।

समारोह के दौरान सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले सांस्कृतिक समूहों को इस अवसर पर प्रोत्साहित किया गया। महोत्सव के निदेशक गुलजार अहमद बट (Gulzar Ahmed Butt) ने कहा कि ‘जश्न-ए-कश्मीर’ का दूसरा चरण जम्मू में आयोजित किया जाएगा, जबकि इसका भव्य समापन 23 जनवरी को नई दिल्ली में होगा। महोत्सव का उद्घाटन 25 अक्टूबर को उपराज्यपाल मनोज सिन्हा (Manoj Sinha) ने किया था। (आईएएनएस)

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

13 + sixteen =

kishori-yojna
kishori-yojna
ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
सीएम केजरीवाल का केन्द्र सरकार पर हमला- चीन कर रहा कब्जा, हम कर रहे व्यापार!
सीएम केजरीवाल का केन्द्र सरकार पर हमला- चीन कर रहा कब्जा, हम कर रहे व्यापार!