nayaindia Jharkhand governor arrives in Delhi झारखंड के राज्यपाल दिल्ली पहुंचे
देश | झारखंड | ताजा पोस्ट| नया इंडिया| Jharkhand governor arrives in Delhi झारखंड के राज्यपाल दिल्ली पहुंचे

झारखंड के राज्यपाल दिल्ली पहुंचे

रांची/दिल्ली। झारखंड में चल रही सियासी उठापटक के बीच राज्यपाल रमेश बैस एक बार फिर  दिल्ली पहुंच गए हैं। एक दिन पहले गुरुवार को झारखंड में सत्तारूढ़ गठबंधन के एक प्रतिनिधिमंडल ने उनसे मुलाकात की थी और मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की विधानसभा सदस्यता को लेकर चुनाव आयोग की ओर से भेजी गई रिपोर्ट पर जल्दी फैसला करने की अपील की थी। राज्यपाल ने कहा था कि वे एक-दो दिन में इस पर फैसला करेंगे। फैसला करने से पहले वे दिल्ली पहुंचे हैं।

ध्यान रहे इससे पहले 25 अगस्त को जब चुनाव आयोग ने अपनी रिपोर्ट राज्यपाल को भेजी थी उस दिन भी राज्यपाल दिल्ली में थे। चुनाव आयोग की रिपोर्ट मिलने के एक हफ्ता गुजर जाने के बाद भी राज्यपाल फैसला नहीं कर सके हैं। गौरतलब है कि मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन पर अपने नाम से खदान का पट्टा लेने का आरोप है। इससे लाभ के पद का मामला बनता है। इस वजह से उनको विधानसभा की सदस्यता से अयोग्य ठहराए जाने की अटकलें लगाई जा रही हैं।

बहरहाल, कहा जा रहा है कि वे दिल्ली में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात कर सकते हैं। राज्यपाल ने फैसला नहीं किया है लेकिन चुनाव आयोग की रिपोर्ट को लेकर कई तरह की अफवाहें फैली हुई हैं। इससे राज्य में राजनीतिक अनिश्चितता बनी है। सत्तारूढ़ गठबंधन का आरोप है कि राज्यपाल के देरी करने से भाजपा को विधायकों की खरीद-फरोख्त का अवसर मिल रहा है। इससे बचाने के लिए जेएमएम और कांग्रेस के विधायकों को छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर ले जाया गया है।

इस बीच खबर है कि नवा रायपुर में मेफेयर रिसॉर्ट में, जहां जेएमएम और कांग्रेस के विधायकों को रखा गया है, उसके बाहर भाजपा के कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन किया। उनका कहना है कि भूपेश बघेल ने रायपुर को अय्याशी का अड्डा बना दिया है। भाजयुमो प्रदेश अध्यक्ष अमित साहू के नेतृत्व में 50 से ज्यादा कार्यकर्ता वहां पहुंचे थे। सभी ने झारखंड के विधायकों को वहां से वापस भेजने के नारे लगाए। रिसॉर्ट के बाहर पुलिस ने भी पुख्ता सुरक्षा व्यवस्था की है। दो सौ के करीब जवानों की तैनाती की गई है। चार थाने के थाना प्रभारी वहां मौजूद हैं और खुद एसपी रैंक के दो अधिकारी मोर्चा संभाल रहे हैं।

Tags :

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

6 + 8 =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
नई तकनीक से हल हो सकती है पराली समस्या
नई तकनीक से हल हो सकती है पराली समस्या