Jharkhand news cbi director सीबीआई डायरेक्टर को कोर्ट में हाजिर होने का निर्देश
देश | झारखंड| नया इंडिया| Jharkhand news cbi director सीबीआई डायरेक्टर को कोर्ट में हाजिर होने का निर्देश

सीबीआई डायरेक्टर को कोर्ट में हाजिर होने का निर्देश

Bangladesh violence durga puja

रांची। झारखंड उच्च न्यायालय (Jharkhand High court) में धनबाद के दिवंगत जज उत्तम आनंद (Judge Uttam Anand) की मौत मामले में शुक्रवार को सुनवाई हुई। उच्च न्यायालय (High Court) के मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति डॉ0 रविरंजन (Dr. Ravi Ranjan) और न्यायमूर्ति सुजीत नारायण प्रसाद (Sujeet Naryana Prashad) की खंडपीठ में मामले की सुनवाई हुई। Jharkhand news cbi director

हाईकोर्ट (High Court) ने कहा कि जब इस मामले की मॉनिटरिंग हाईकोर्ट कर रहा है तो सीबीआई (CBI) द्वारा चार्जशीट धनबाद स्थित सीबीआई के स्पेशल कोर्ट (Special Court) में फाइल करने के पूर्व इसकी जानकारी हमें क्यों नहीं दी गयी? सीबीआई ने हमसे क्यों यह बात छिपाई? कोर्ट ने यह भी कहा कि सीबीआई (CBI) से इसकी उम्मीद नहीं थी। यह त्रुटिपूर्ण चार्जशीट है। इस मामले की हाईकोर्ट निगरानी कर रहा है और निगरानी का मतलब सिर्फ खानापूर्ति नहीं होती।

जिला न्यायाधीश उत्तम आनंद की मौत के मामले में सीबीआई की अब तक की जांच पर नाराजगी जाहिर की

अदालत ने सीबीआई की ओर से दायर आरोपपत्र पर नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि कोर्ट को अंधेरे में रखेते हुए स्टेरियोटाइप चार्जशीट दाखिल की गयी है। चार्जशीट में अंकित हत्या की धारा 302 का कोई प्रमाण नहीं है। सीबीआई (CBI) की इस कार्रवाई पर अदालत ने टिप्पणी करते हु कहा कि बाबुओं की तरह जांच एजेंसी काम कर रही है और कोर्ट ने अगली सुनवाई के दौरान सीबीआई निदेशक को कोर्ट में पेश होने का निर्देया दिया। सीबीआई डायरेक्टर को अगली सुनवाई में वर्चुअल माध्यम से हाजिरी लगाने का निर्देश दिया गया है।

हार्टकोर्ट ने पिछली सुनवाई के दौरान भी सीबीआई की ओर से पेश जांच रिपोर्ट पर असंतोष व्यक्त करते हुए सीबीआई और एसआईटी को स्पेसिफिक रिपोर्ट पेश करने का निर्देश दिया था।

गौरतलब है कि धनबाद के जज उत्तम आनंद की मौत पिछले जुलाई महीने में मॉर्निंग वॉक के दौरान एक ऑटो से टक्कर लगने के कारण हो गयी थी। जिस तरह से ऑटो ने जज को टक्कर मारी थी, उससे कई सवाल उठ खड़ हुए और इस संदिग्ध मौत की जांच की जिम्मेवारी सीबीआई को सौंपी गयी। लेकिन अब तक सीबीआई कोई ठोस नतीजे पर नहीं पहुंच सकी है और इस मामले में गिरफ्तार ऑटो चालक समेत दो अन्य लोगों के खिलाफ आरोप पत्र भी सौंपा जा चुका हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
मप्र में कोरोना मौत पर 50 हजार का मुआवजा
मप्र में कोरोना मौत पर 50 हजार का मुआवजा