nayaindia Karnataka School Reopening : 2.5 लाख से अधिक शिक्षकों का टीकाकरण
kishori-yojna
देश| नया इंडिया| Karnataka School Reopening : 2.5 लाख से अधिक शिक्षकों का टीकाकरण

Karnataka School Reopening: 2.5 लाख से अधिक शिक्षकों का टीकाकरण, 8 जिलों में 90% से अधिक उपस्थिति

कर्नाटक स्कूल फिर से खोलना एक सफलता रही है। जहां अधिकांश राज्य कक्षा 9 से 12 तक के छात्रों के लिए वरिष्ठ कक्षाओं को फिर से खोल रहे हैं। वहीं कर्नाटक ने कक्षा 6 से 8 के लिए भी स्कूलों को फिर से खोलने की घोषणा की है। राज्य के शिक्षा मंत्री बीसी नागेश ने कहा कि हमने 6,472 छात्रों का परीक्षण किया, जिनमें से केवल 14 सकारात्मक आए हैं। यह आंकड़ा दर्शाता है कि सकारात्मकता दर बहुत कम है। यहां तक ​​कि डॉक्टरों ने भी छात्रों में संक्रमित बहुत कम बताया है। जिससे राज्य सरकार ने दूसरे चरण में भी स्कूलों को फिर से खोल दिया। ( Karnataka School Reopening)

also read: इस देश में हुआ ऑनलाइन गेम ऑवर, बच्चों के ऑनलाइन गेम खेलने पर सरकार ने लगाया पाबंद

टीकाकरण को भी प्राथमिकता दी ( Karnataka School Reopening )

दूसरे चरण में केवल 2 प्रतिशत से कम सकारात्मक दरों वाले जिलों में स्कूलों को फिर से खोलने की अनुमति दी जाएगी। नागेश ने बताया कि मैंगलोर को छोड़कर सभी तालुकों में 2% या उससे कम सकारात्मकता दर देखी गई है। उन्होंने कहा कि 212 ग्राम पंचायतों में एक भी सीओवीआईडी ​​​​-19 सकारात्मक मामला नहीं देखा गया है। राज्य ने शिक्षकों के बीच टीकाकरण को भी प्राथमिकता दी है। २.६१ लाख शिक्षकों में से २.५ लाख से अधिक का टीकाकरण किया गया है। इसमें से 1.5 लाख ने अपनी दो खुराक पहले ही प्राप्त कर ली है।

92 % बच्चों ने कम से कम एक भाषा की क्षमता खो दी

मंत्री ने कहा कि राज्य निम्न आय वर्ग के छात्रों को लक्षित कर रहा है। चूंकि मार्च 2020 के मध्य से स्कूल बंद हैं और कक्षाओं को ऑनलाइन मोड में स्थानांतरित कर दिया गया है। बहुत से छात्र शिक्षा प्राप्त नहीं कर पाए हैं खासकर वे जो ग्रामीण क्षेत्रों या आर्थिक रूप से पिछड़े परिवारों से ताल्लुक रखते हैं। अजीम प्रेमजी फाउंडेशन के एक सर्वेक्षण में पाया गया कि 92 प्रतिशत बच्चों ने कम से कम एक भाषा की क्षमता खो दी है जबकि 82 प्रतिशत ने गणित कौशल खो दिया है। हमने देखा कि गरीब और ग्रामीण पृष्ठभूमि से आने वाले छात्रों के बीच प्रतिक्रिया बहुत अधिक है। स्कूलों को फिर से खोलते समय इन छात्रों पर हमारा ध्यान होता है। सरकारी और निजी दोनों स्कूलों में 60 प्रतिशत से अधिक छात्र स्कूलों में भाग ले रहे हैं। 15 जिलों में उपस्थिति 80 प्रतिशत से अधिक है। ( Karnataka School Reopening) आठ जिलों में उपस्थिति 90 प्रतिशत से अधिक है। स्कूल छोड़ने की दर भी बहुत कम है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

14 + fourteen =

kishori-yojna
kishori-yojna
ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
मोदी के खिलाफ दुष्प्रचार सोची-समझी राजनीति का हिस्सा…
मोदी के खिलाफ दुष्प्रचार सोची-समझी राजनीति का हिस्सा…