nayaindia lottery Jackport Kerala : 500 के छुट्टे के लिए मजबूरी में खरीदी थी लॉटरी और...
देश| नया इंडिया| lottery Jackport Kerala : 500 के छुट्टे के लिए मजबूरी में खरीदी थी लॉटरी और...

Kerala : लॉटरी से थी नफरत, 500 के छुट्टे के लिए मजबूरी में खरीदी थी लॉटरी और 5 घंटे में बने करोड़पति…

lottery Jackport Kerala :

केरल । lottery Jackport Kerala : जब किसी व्यक्ति की किस्मत उसके साथ होती है तो कैसे भी चमत्कार हो जाता है. इसी तरह के चमत्कारी मामला सदानंदन नाम के व्यक्ति के साथ भी हुआ. सदानंद जब सब्जी खरीदने के लिए गए थे तो उनके पास छुट्टे पैसे नहीं थे जिस कारण उन्हें काफी परेशानी हो रही थी. उन्हें समझ नहीं आ रहा था कि वह कहां से छुट्टे पैसे लेकर आए थक हार कर उन्होंने सामने की लॉटरी दुकान से एक लॉटरी खरीद ली. यहां बता दें कि इसके पहले उन्होंने कई दुकानदारों से छुट्टे पैसे मांगे थे लेकिन किसी ने भी उन्हें चेंज पैसे नहीं दिये. सदानंदन खुद कहते हैं कि लॉटरी का टिकट खरीदने के बाद भी वह चेंज नहीं रहने वाले लोगों को बुरा भला कह रहे थे. हालांकि महज 5 घंटे के बाद जब उन्हें पता चला कि उन्होंने लॉटरी टिकट जीती है बाकी जैकपॉट तो उनके होश उड़ गए.

lottery Jackport Kerala :

इनाम में जीती 12 करोड़ की राशि

lottery Jackport Kerala : यह पूरा मामला केरल के कोट्टायम का है जहां सदानंदन अपनी पत्नी के साथ सब्जी खरीदने गए थे. इनाम जीतने के बाद उन्हें खुद भी इस बात का विश्वास नहीं हो रहा था कि उन्होंने ₹120000000 जीते हैं. सदानंदन ने बताया कि को लॉटरी का टिकट खरीदने के आदी नहीं है और वह कभी भी लॉटरी नहीं खेलते. उनका कहना है कि मजबूरी में आकर में या टिकट खरीदना पड़ा था लेकिन उन्हें क्या पता था कि एक चमत्कार होने वाला है.

इसे भी पढ़ें- Republic Day : गणतंत्र दिवस पर कोरोना का साया, परेड में सामान्य से 80 प्रतिशत की कमी और …

नंबर जांचने भी नहीं गए सदानंदन…

lottery Jackport Kerala : 77 वर्ष के सदानंदन ने लॉटरी का टिकट लिया और फिर उसे जेब में डाल कर अपने घर आ गए. वे बताते हैं कि पत्नी के साथ बैठकर व सब्जियां काटने में लग गए और फिर नहाने चले गए. लॉटरी विक्रेता खुद उनके घर आया और उनको इस बात की जानकारी दी कि उनकी लॉटरी टिकट ने जैकपोट का इनाम जीता है. शुरू में तो उन्हें खुद इस बात पर विश्वास नहीं हुआ लेकिन टिकट का नंबर मिलाने के बाद उनके आश्चर्य का ठिकाना नहीं रहा. सदानंदन का कहना है कि वह इस पैसे से समाज का सरोकार करेंगे और वे शुरू से गरीबों की पढ़ाई पर ध्यान देना चाहते थे अंतिम वक्त में भगवान ने यह मौका उन्हें दिया है.

इसे भी पढ़ें- 12 साल बाद अलग हुए महाभारत के कृष्ण उर्फ ​​नीतीश भारद्वाज और IAS अफसर पत्नी, दूसरी शादी में भी हुआ तलाक

Leave a comment

Your email address will not be published.

seventeen − 9 =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
बहन जी बोलीं- धार्मिक स्थलों के मामलों को तूल देकर, असल मुद्दों से बच रही है BJP…
बहन जी बोलीं- धार्मिक स्थलों के मामलों को तूल देकर, असल मुद्दों से बच रही है BJP…