nayaindia Lakhimpur Khiri Supreme Court : यूपी सरकार की कार्रवाई से असंतुष्ट है SC...
देश | उत्तर प्रदेश | ताजा पोस्ट| नया इंडिया| Lakhimpur Khiri Supreme Court : यूपी सरकार की कार्रवाई से असंतुष्ट है SC...

लखीमपुर खीरी : यूपी सरकार की कार्रवाई से असंतुष्ट है SC, कहा- क्या सामान्य अभियुक्तों के खिलाफ भी करते हैं ऐसा व्यवहार…

Lakhimpur Khiri Supreme Court :

नई दिल्ली | Lakhimpur Khiri Supreme Court : ​खीमपुर खीरी हिंसा मामले में आज पहली बार सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई. सर्वोच्च न्यायालय ने साफ कर दिया कि वह तो प्रदेश सरकार की अब तक की कार्रवाई से बिल्कुल भी संतुष्ट करना है. कोर्ट ने कहा कि इस मामले से जुड़े मेल उनके पास पहुंचे हैं लेकिन सब पर चर्चा करना संभव नहीं है. कोर्ट ने कहा कि अब इस मामले में भी पहले राज्य सरकार का पक्ष सुने है उसके बाद ही किसी दूसरे को मौका दिया जाएगा. बता दें कि राज्य सरकार की ओर से सुप्रीम कोर्ट में इस मामले में अब तक की स्टेटस रिपोर्ट पेश की गई थी. जिसके बाद कोर्ट ने इस मामले को अब 20 अक्टूबर को अगली सुनवाई के लिए वक्त दिया है.

Lakhimpur Khiri Supreme Court : ​

आशीष मिश्रा के नाम समन

Lakhimpur Khiri Supreme Court : समामले में आरोपी माने जा रहे आशीष मिश्रा को समन जारी कर दिया गया है. इस संबंध में जानकारी देते हुए यूपी सरकार का पक्ष रख रहे वकील हरीश साल्वे ने कहा कि कल सुबह 11:00 बजे तक उन्हें कोर्ट में पेश होने के लिए कहा गया है. यदि वह ऐसा नहीं करते हैं तो उसके बाद कानून अपना काम करेगा. हालांकि इस पर उत्तर प्रदेश प्रशासन की क्लास लगाते हुए कोर्ट ने कहा कि ज्ञानी मामलों में सामान्य अभियुक्तों के खिलाफ भी प्रशासन ऐसे व्यवहार करता है. कोर्ट ने यूपी सरकार और प्रशासन को एक बार फिर से याद दिलाया कि कानून सबके लिए एक है.

इसे भी पढ़ें –भाजपा को मोतियाबिंद नहीं हुआ है अखिलेश जी आप धृतराष्ट्र बन गये हैं – सिद्धार्थनाथ सिंह

Lakhimpur Khiri Supreme Court :

दूसरी एजेंसियों को जांच की कमान

Lakhimpur Khiri Supreme Court : सुप्रीम कोर्ट द्वारा की गई कार्रवाई को पूरी तरह से स्पष्ट नहीं मांगा जिसके बाद कोर्ट ने दूसरी एजेंसियों को इस मामले की जांच की जिम्मेवारी सौंपने के संकेत दिए. कोर्ट ने पूछा कि जीत अधिकारियों को जांच की जिम्मेवारी दी गई है क्या वे सही तरीके से जांच कर सकेंगे. इतना ही नहीं सुप्रीम कोर्ट ने राज्य के डीजीपी को इस संबंध में निर्देश देते हुए कहा कि इस मामले से जुड़े सभी सबूतों को संभाल कर रखा जाए. कोर्ट ने कहा कि सभी मामलों में सीबीआई को नहीं लगाया जा सकता राज्य सरकार और प्रशासन की भी कुछ जिम्मेदारियां होती हैं.

इसे भी पढ़ें- Corona Update : 15 अक्टूबर तक सरकारी कर्मचारियों को लगवाना ही होगा पहला डोज वरना नहींं मिलेगी कार्यालयों में एंट्री…

Leave a comment

Your email address will not be published.

eighteen + two =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
राणे को सुप्रीम कोर्ट से राहत नहीं
राणे को सुप्रीम कोर्ट से राहत नहीं