लालकिला हिंसा मामला : दो आरोपी चढ़े पुलिस के हत्थे, नेपाल के रास्ते विदेश भागने की थी योजना - Naya India
देश | पंजाब| नया इंडिया|

लालकिला हिंसा मामला : दो आरोपी चढ़े पुलिस के हत्थे, नेपाल के रास्ते विदेश भागने की थी योजना

New Delhi: 26 जनवरी के दिन लालकिले में हुई हिंसा (Violence in red fort) के मामले में दिल्ली पुलिस(Delhi Police) को बड़ी सफलता हाथ लगी है.उक्त मामले में पुलिस ने दो और आरोपियों को गिरफ्तार (Arrested) किया है. बताया जा रहा है कि दोनों आरोपियों का आपराधिक इतिहास (Criminal History) रहा है. पकड़े गये आरोपियों के नाम मनिंदरजीत और खेमप्रीत सिंह हैं. पुलिस को सूचना मिली थी कि पकड़े गये आरोपियों में से एक विदेश भागने की योजना बना रहा था. वहीं दूसरे पर आरोप है कि 26 जनवरी के दिन उसने पुलिस वालों पर फरसे से हमला किया था. मनिंदरजीत नीदरलैंड (Netherlands) का नागरिक है और बर्मिंघम में रहता है. लेकिन ये मूल रूप से पंजाब(Punjab) के गुरदासपुर का रहने वाला है. बता दें कि दिल्ली पुलिस ने मनिंदरजीत को आईजीआई एयरपोर्ट(IGI Airport) से गिरफ्तार किया है. पुलिस ने गुप्त सूचना के आधार पर ये गिरफ्तारी की है. पुलिस कर्मियों ने बताया कि मनिंदरजीत के पास से फर्जी दस्तावेज मिले हैं. इन्हीं दस्तावेजों का प्रयोग कर वो नेपाल होकर ब्रिटेन भागने वाला था. इसपर पहले से दो मामले दर्ज हैं साथ ही इसके खिलाफ लुकऑउट नोटिस भी जारी था.

इसे भी पढ़ें- ‘पद्मावत’ के खिलाफ मोर्चा खोलने वाले करणी सेना के अध्यक्ष के बेटे की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत

पुलिस पर फरसे से हमला करने का मुख्य आरोपी है खेमप्रीत

खेमप्रीत दिल्ली के स्वरूप नगर का रहने वाला बताया जा रहा है. आरोप है कि खेमप्रीत ने ही 26 जनवरी के दिन दिल्ली पुलिस पर फरसे से हमला किया था. इसके बाद से वो फरार चल रहा था. इस बारे में जानकारी देते हुए क्राइम ब्रांच की डीसीपी मोनिका भरद्वाज(DCP Monica Bhardwaj) ने बताया कि 23 साल का मनिंदरजीत लालकिले के अंदर भाला लेकर घूम रहा था. इसके साथ ही पुलिस के पास मनिंदरजीत के कई वीडियो और इलेक्टॉनिक सबूत(Video and Electronic Proofs) हैं जिससे स्पष्ट होता है कि उसने पुलिस पर हमला किया था.

इसे भी पढ़ें-  NO SMOKING DAY: स्मोकिंग छोड़ने से आपको भी हो सकते हैं 5 फायदे

जरमंजीत सिंह के नाम से तैयार किये थे फर्जी दस्तावेज

पुलिस को गुप्त सूचना मिली था कि मनिंदरजीत कई बार सिंघु बॉर्डर(Sindhu Border) गया था 26 जनवरी की हिंसा के बाद से मनिंदरजीत पंजाब भाग गया. इसके बाद से वो लगातार विदेश भागने की फिराक में था. इसके लिए उसने जरमंजीत सिंह(Jaramanjit Singh) के नाम से फर्जी दस्तावेज(Fake Documents) भी बनवाये थे. उसने दिल्ली से नेपाल और उसके बाद ब्रिटेन भागने की योजना बना रखी थी.

इसे भी पढ़ें- अबकी बार उत्तराखंड में तीरथ सिंह रावत की सरकार, बैठक में लगी मुहर

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *