• डाउनलोड ऐप
Thursday, May 13, 2021
No menu items!
spot_img

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पत्रकारों को माना फ्रंटलाइन वर्कर

Must Read

कोरोना महामारी के बीच भी पत्रकार अपने धर्म से पीछे नहीं हटे है। देश में जब पहली बार लॉकडाउन लगा था उस समय पूरा देश घरों में सुरक्षित बैठा था और पत्रकार संकट के बीच फील्ड में अपनी रिपोर्टिग कर रहे थे। ऐसे में अब मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सभी मान्यता प्राप्त पत्रकारों को फ्रंटलाइन वर्कर घोषित किया है। सोमवार को कहा कि प्रदेश के सभी मान्यता प्राप्त पत्रकार अग्रिम पंक्ति के कर्मियो की श्रेणी में शामिल किए गए हैं। उन्होंने कहा कि पत्रकार कोविड काल में अपनी जान जोखिम में डालकर अपने कर्तव्यों का निर्वाह कर रहे हैं। यह जानकारी शिवराजसिंह चौहान ने ट्वीट कर दी थी। हॉस्पिटल से लेकर शमशान घाट तक पत्रकारों ने सच्चाई को जन-जन तक पहुंचाया है। और आज भी कई राज्यों की सरकारों ने लॉकडाउन लगा रखा है तो बाहर की सच्चाई को जनता से अवगत करा रहे है।  भारत में कोरोना ने अपना आतंक मचा रखा है। हालात बेकाबू हो रहे है। आज भी पत्रकार अपना कर्तव्य निभाते हुए सच्चाई को जनता तक पहुंचा रहे है। कोरोना काल में अनेक पत्रकार अपनी जान से हाथ धो बैठे है। कई पत्रकार रिपोर्टिग करते-करते कोरोना संक्रमित भी हो चुके है।

इसे भी पढ़ें Corona Vaccine : कोरोना के खिलाफ जंग होगी और मजबूत, Pfizer ने भी थामा भारत का हाथ

मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान का ट्वीट

हमारे पत्रकार मित्र कोरोना काल में अपनी जान जोखिम में डालकर अपने कर्तव्यों का निर्वाह कर रहे है। मध्यप्रदेश में सभी अधिमान्यता प्राप्त पत्रकारों को हमने फ्रंटलाइन वर्कर घोषित करने का निर्णय लिया है। उनका पूरी ध्यान रखा जाएगा और उनकी पुरी चिंता की जायेगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना संक्रमण काल में वास्तविकता को जन-जन तक पहुँचाने वाले पत्रकार भी वास्तव में कोरोना योद्धा हैं। उन्होंने कहा कि अधिमान्य पत्रकारों को भी अग्रिम पंक्ति के कर्मियों को दी जाने वाली सभी सुविधाओं का लाभ दिया जाएगा।

प्रधानमंत्री ने भी पत्रकारों को माना फ्रंटलाइन वर्कर

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जब पहली बार लॉकडाउन का ऐलान किया था तब डॉक्टर्स, पुलिस कर्मचारियों के साथ पत्रकारों को भी फ्रंटलाइन वर्कर माना था। जिस तरीके से डॉक्टर्स और पुलिस ने अपना धर्म निभाया है उसी तरह से पत्रकारों ने भी अपना कर्तव्य अच्छी तरह से निभाया है। देश में कोरोना के मामले बढ़ते ही जा रहे है। ऐसे में सभी ने अपना काम भलीभांति किया है। हाल ही में आजतक के जाने माने पत्रकार रोहित सरदाना का कोरोना के कारण निधन हो गया है।

मध्यप्रदेश में कोरोना का साया

मध्यप्रदेश में रविवार को कोरोना वायरस संक्रमण के 12,662 नए मामले सामने आने के बाद संक्रमितों की कुल संख्या 5,88,368 तक पहुंच गयी। राज्य में पिछले 24 घंटों में इस बीमारी से 94 और व्यक्तियों की मौत हुई है। प्रदेश में अब तक इस बीमारी से मरने वालों की संख्या 5,812 हो गयी है। यह जानकारी मध्य प्रदेश स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने दी है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में रविवार को कोविड-19 के 1,821 नये मामले इंदौर में आये, जबकि भोपाल में 1,678, ग्वालियर में 1,072 एवं जबलपुर में 731 नये मामले आये। अधिकारी ने बताया कि प्रदेश में कुल 5,88,368 संक्रमितों में से अब तक 4,95,367 मरीज स्वस्थ होकर घर चले गये हैं और 87,189 मरीजों का इलाज विभिन्न अस्पतालों में चल रहा है।उन्होंने कहा कि रविवार को 13890 रोगियों को ठीक होने के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई।

इसे भी पढ़ें Corona in MP : मध्य प्रदेश में डेढ़ लाख से ज्यादा कोरोना मरीजों को मेडिकल किट वितरित

- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest News

सुशील मोदी की मंत्री बनने की बेचैनी

बिहार के पूर्व उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी को जब इस बार राज्य सरकार में जगह नहीं मिली और पार्टी...

More Articles Like This