madhyapradesh politics BJP Congress सर्द मौसम में गरमाती सियासत
गेस्ट कॉलम | देश | मध्य प्रदेश| नया इंडिया| madhyapradesh politics BJP Congress सर्द मौसम में गरमाती सियासत

सर्द मौसम में गरमाती सियासत

भोपाल। अब जबकि धीरे-धीरे प्रदेश के वातावरण में ठंडक बढ़ने लगी है तब प्रदेश की सियासत गरमाने लगी है। भाजपा हो या कांग्रेस दोनों जगह बैठकों समीक्षाओं और भविष्य की योजनाओं पर सक्रियता बढ़ गई है। 2023 के लिए दोनों ही दलों में मैदानी मजबूती को फोकस किया जा रहा है। Madhyapradesh politics BJP Congress

सत्तारूढ़ दल भाजपा ने दो दिन में सत्ता और संगठन के नेताओं विधायकों के साथ मैराथन बैठकें करके फीडबैक का आदान-प्रदान कर लिया है और आज राजधानी के मिंटो हाल में प्रदेश कार्यसमिति की बैठक होने जा रही है। जिसमें भविष्य का खाका तैयार किया जाएगा और इसके लिए जो भी जरूरी फेरबदल होगा वह भी नए वर्ष की शुरुआत में ही कर दिया जाएगा। जिससे कि फिर निर्बाध गति से 2023 की तैयारियों में सत्ता और संगठन जुड़ सके। इस बार पार्टी प्रत्येक बूथ पर 51% मतों का लक्ष्य लेकर काम कर रही है लेकिन उसका पिछला अनुभव खासकर उपचुनाव में अपेक्षाकृत अच्छा नहीं है।

इसी कारण एक एक बिंदु पर विचार – विमर्श किया जा रहा है एवं चुनावी रणनीति मैं माहिर माने जाने वाले नेताओं को विशेष रुप से आगे करने की रणनीति बनाई गई है जिससे कि विपक्षी दल कांग्रेस 2018 की तरह झटका ना दे सके और सत्ता और संगठन में उन लोगों को महत्वपूर्ण पदों से किनारे किया जाएगा जो चुनावी राजनीति में खासकर विपरीत परिस्थितियों में पार्टी की नैया पार लगाने की क्षमता नहीं रखते। इस बार पार्टी में जो संगठन स्तर पर प्रदेश के प्रभारी बने हैं किसी दबाव प्रभाव या तेरे मेरे को महत्व न देते हुए केवल पार्टी की मजबूती के लिए काम कर रहे हैं और पिछले महीनों में उन्होंने जमीनी स्तर का पूरा फीडबैक तैयार कर लिया है। कौन नेता क्या कर रहा है उन लोगों से नेतृत्व विशेष रूप से प्रभावित है। जिन्होंने कोरोना काल में आम आदमियों की सेवा में कोई कसर नहीं छोड़ी और जो कार्यकर्ताओं और जनता से सतत संपर्क तो रखते ही हैं उनसे संबंध भी निरंतर बनाए हुए हैं।

Read also कोरोनाः यूरोप से भारत बेहतर

विशेष रुप से राष्ट्रीय सह संगठन महामंत्री शिव प्रकाश और प्रदेश प्रभारी मुरलीधर राव संगठन को बूथ स्तर तक मजबूती देने के लिए संकल्पित है इसके लिए जो भी परिवर्तन करना होगा उसमें किसी भी प्रकार का भेदभाव नहीं किया जाएगा और ना ही विशेष प्रकार की शर्तें लागू की जाएंगी केवल सेवा और संगठन की ताकत पर हर से प्रदेश में सरकार बनाने और 2024 में सभी लोकसभा सीटों को जीतने के लक्ष्य पर काम हो रहा है। इस बार विशेष कसावट और सक्रियता इसलिए भी है क्योंकि विपक्षी दल कांग्रेस सत्ता में वापसी के लिए पहली बार गंभीर दिखाई दे रही है बल्कि बिना हो-हल्ला किए जमीनी पकड़ बनाने और भाजपा सरकार को भाजपा के नेताओं को हर मुद्दे पर घेरने का काम कर रही है पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ एक बार फिर से कांग्रेस की सरकार बनाने के लिए गोटियां फिट कर रहे हैं।

कुल मिलाकर एक तरफ जहां मौसम में ठंडक बढ़ रही है। वहीं दूसरी ओर प्रदेश की सियासत गरमाने लगी है और भाजपा हो या कांग्रेस दोनों ही दलों के नेता मिशन 2023 के लिए अभी से तैयारियों में जुट गए हैं कांग्रेस जहां छोटी-छोटी बैठ कर करके रणनीति बना रही है। वही भाजपा एक तरफ मेगा शो करके माहौल बना रही है तो वहीं दूसरी ओर प्रत्येक बूथ पर पार्टी का वोट प्रतिशत बढ़ाने का प्रयास कर रही है आज होने वाली पार्टी की प्रदेश कार्यसमिति की बैठक में भविष्य का खाका फीडबैक के आधार पर खींचा जाएगा।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
Modi vs Mamta देखना चाहते हैं 2024 लोकसभा में PK, कहा-10 सालों में 90% चुनाव हारी है कांग्रेस…
Modi vs Mamta देखना चाहते हैं 2024 लोकसभा में PK, कहा-10 सालों में 90% चुनाव हारी है कांग्रेस…