madhya pradesh education policy राम के नाम से मोक्ष और वोट दोनों
देश | मध्य प्रदेश| नया इंडिया| madhya pradesh education policy राम के नाम से मोक्ष और वोट दोनों

राम के नाम से मोक्ष और वोट दोनों

ram

भारत राम केवल आस्था का ही नहीं बल्कि सियासत का केंद्र है भी है क्योंकि राम की आराधना से मोक्ष मिलता है और राम के नाम से नेताओ को वोट देश की सियासत में मध्य प्रदेश में एक बार फिर राम के नाम की चर्चा है। प्रदेश सरकार ने टेक्नॉलोजी के इस दौर पर कॉलेजों में रामचरतिमानस को पढ़ाने का फैसला लिया है भगवान राम के आलावा , हनुमान तुलसीदास, वेद पुराण और उपनिषद पढ़ाये जाएंगे… मध्य प्रदेश में उच्चशिक्षा विभाग ने एमबीबीएस के बाद अब इंजीनियरिंग और आर्टस के सिलेबस में नैतिक और धार्मिक शिक्षा देने की पूरी तैयारी कर ली है… ऐसा नहीं है कि मध्य प्रदेश सरकार पहली बार इस तरह का प्रयोग करने जा रही है… देखिए नई शिक्षा नीति के तहत हायर एज्यूकेशन डिपार्टमेंट में पढ़ाई का क्या शेड्यूल बनाया है.. (madhya pradesh education policy)

Ramayana included in the curriculum

मध्य प्रदेश की नई शिक्षा नीति

पहले एमबीबीएस के फर्स्ट ईयर के फाउंडेशन विषय में आरएसएस संथापक डॉक्टर हेडगेवार और जनसंघ की स्थापना करने वाले दीनदयाल उपाध्याय की जीवनी जोड़ी गई अब बीए के फर्स्ट ईयर में वैक्लपिक विषय के तौर पर दर्शन शास्त्र जोड़ा गया है… जिसमें राम हनुमान तुलसीदास की जीवनी के साथ साथ… रामसेतु का महत्व, चारों युगों वेद उपनिषद गीता भी पढ़ाई जाएगी……
उच्च शिक्षा विभाग की योजना है कि मप्र के इंजीनियरिंग कॉलेजों में भी रामसेतु के निर्माण…. स्ट्रक्चर और सेतु के तकनीकि पहलुओं को पढ़ाया जाए… केन्द्र सरकार ने बच्चों रोज़गार परक शिक्षा देने के लिए देश में नई शिक्षा नीति को मंजूरी दी थी… जिसके तहत नौवी कक्षा से ही बच्चों को टेक्नीकल शिक्षा दिया जाना था… लेकिन मध्य प्रदेश में टेक्नीकल एज्यूकेशन तो दूर… सामाजिक शिक्षा के नाम पर बीजेपी आरएसएस के नेताओं और नैतिक शिक्षा में हिंदु प्रतिमाओं को स्थापित किया जा रहा है… जहां महाराष्ट.. दिल्ली… बिहार नई शिक्षा नीति तहत नए नए टेक्नीकल विषय शुरू करने की तैयारी में हैं तो वहीं मध्य प्रदेश में संघ के अजेंडे को आगे बढ़ाने के आरोप लग रहे है !भारत में सियासत के लिए राम सत्ता की गारंटी है लिहाजा देश की सियासत के केंद्र में राम है , राम के नाम के सहारे बीजेपी देश और प्रदेश में कई चुनावी वैतरणी पार कर चुकी है , कभी सियासत में अलप संख्यको को वोट बैंक के तौर पर देखा जाता रहा है पर मोदी के पीएम बनने के बाद संघ ने हिन्दुओ की ताकत को पहचानकर उन्हें हिंदुत्व और धर्म के नाम पर एक जुट कर नई सियासी जमीन को तैयार किया है और राम का नाम इस जमीन में सत्ता लहलहाती फसल की गारंटी है।

लेखक: सुधीर दंडोतिया

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
Corona Relief: जून तक महाराष्ट्र में कम हो सकता है कोरोना का कहर, वैज्ञानिकों ने जताई आशंका
Corona Relief: जून तक महाराष्ट्र में कम हो सकता है कोरोना का कहर, वैज्ञानिकों ने जताई आशंका