शिवराज मंत्रिमंडल विस्तार के फिर अटकने के आसार

भोपाल। मध्यप्रदेश में राजभवन परिसर में रहने वाले छह लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं, जिसके बाद से मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के मंत्रिमंडल के बहुप्रतीक्षित दूसरे विस्तार के अटकने के आसार नजर आने लगे हैं।

राज्य के मुख्यमंत्री के तौर पर शिवराज सिंह चौहान ने 23 मार्च को शपथ ली थी और उसके बाद पहले मंत्रिमंडल गठन में एक माह का वक्त लग गया था। सियासी खींचतान के चलते सिर्फ पांच मंत्रियों को शपथ दिलाई गई थी। इन पांच मंत्रियों में दो, पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के समर्थक हैं।

गौरतलब है कि पूर्व केंद्रीय मंत्री सिंधिया ने कांग्रेस का दामन छोड़कर भाजपा की सदस्यता ली थी और उसके बाद 22 तत्कालीन विधायकों ने विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा देते हुए कांग्रेस छोड़ दी थी और भाजपा में शामिल हो गए थे। इस बदले राजनीतिक घटनाक्रम के चलते तत्कालीन मुख्यमंत्री कमलनाथ को इस्तीफा देना पड़ा था और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के विधायक दल के नेता के तौर पर शिवराज सिंह चौहान ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी।

भाजपा के सत्ता में आने के बाद से ही मंत्रिमंडल विस्तार की चर्चाएं जोरों पर हैं। पूर्व केंद्रीय मंत्री सिंधिया से नाता रखने वाले 8 से 10 लोगों को शिवराज सिंह चौहान के मंत्रिमंडल में शामिल किए जाने का वादा भाजपा की ओर से किया गया है।

पिछले दिनों मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने स्वयं घोषणा की थी कि मंत्रिमंडल का विस्तार जल्दी होगा और संभावना भी यह जताई जा रही थी कि लॉकडाउन चार की अवधि 31 मई को खत्म हो रही है और उसके बाद कभी भी मंत्रिमंडल का विस्तार संभव है। पूर्व केंद्रीय मंत्री सिंधिया भी एक जून को भोपाल आने वाले हैं, इसलिए भी इस बात को बल मिला।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares