nayaindia Eknath Shinde Rebellion Justified सीएम शिंदे ने 'विद्रोह' को सही ठहराया
देश | महाराष्ट्र| नया इंडिया| Eknath Shinde Rebellion Justified सीएम शिंदे ने 'विद्रोह' को सही ठहराया

सीएम शिंदे ने ‘विद्रोह’ को सही ठहराया

CM Shinde justifies 'uprising', proclaims to be 'heir' to Balasaheb's legacy

मुंबई। मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे (Eknath Shinde) ने बुधवार को शिवसेना (Shiv Sena) नेतृत्व के खिलाफ अपने विद्रोह का बचाव करते हुए इसे ‘विश्वासघात नहीं बल्कि पार्टी को बचाने के लिए एक विद्रोह’ करार दिया और खुद को दिवंगत बालासाहेब ठाकरे (Balasaheb Thackeray) के राजनीतिक विरासत के उत्तराधिकारी के रूप में घोषित किया। यहां बांद्रा कुर्ला कॉम्प्लेक्स मैदान (Bandra Kurla Complex Ground) में एक विशाल दशहरा रैली (huge dussehra rally) को संबोधित करते हुए, शिंदे ने अपने भाषण का बड़े पैमाने पर अपने विद्रोह को सही ठहराने के लिए प्रयोग किया, और शिवसेना अध्यक्ष और पूर्व सीएम उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) द्वारा उठाए गए कई बिंदुओं का जवाब दिया। इस कार्यक्रम में शामिल होने वाले कुछ आश्चर्यजनक अतिथि उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) के बड़े भाई जयदेव ठाकरे (Jaidev Thackeray) और भाभी स्मिता ठाकरे (smita thackeray) और अन्य सदस्य थे।

ठाकरे के हमलों का विरोध करते हुए, शिंदे ने उन पर बालासाहेब के आदर्शों को ‘बेचने’, सत्ता के लालच में कांग्रेस-राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के साथ हाथ मिलाकर ‘पाप’ करने और पिछले दो वर्षों में खुली आंखों से शिवसेना के विनाश को देखने का आरोप लगाया। उन्होंने ठाकरे पर अक्टूबर 2019 के विधानसभा चुनावों के बाद एमवीए सरकार बनाने के लिए भाजपा के साथ ‘गद्दारी’ (विश्वासघात) का आरोप लगाते हुए इसे ‘बालासाहेब, शिव सैनिकों, हिंदुत्व, भाजपा (BJP) के साथ विश्वासघात’ करार दिया, जिसके समर्थन से उन्होंने जीत हासिल की। सीएम ने ठाकरे के आरोपों को भी खारिज कर दिया कि वह (शिंदे) सीएम बनना चाहते थे या शिवसेना को नियंत्रित करना चाहते थे, और कहा कि जब राकांपा अध्यक्ष शरद पवार (Sharad Pawar) ने ठाकरे पर सीएम के रूप में पदभार ग्रहण करने पर जोर दिया, तो उन्होंने आसानी से इस कदम का समर्थन किया क्योंकि उन्होंने कभी भी सत्ता के लिए लालायित नहीं किया।

उन्होंने कहा शिवसेना आपकी प्राइवेट लिमिटेड कंपनी (private Limited company) है, क्या आप हमारे मालिक हैं और हम आपके नौकर हैं? क्या केवल चांदी के चम्मच के साथ पैदा हुए लोग ही सीएम बन सकते हैं? क्या आम ड्राइवर या फेरीवाले शीर्ष पद पर कब्जा नहीं कर सकते? यह बालासाहेब (Balasaheb) की सेना है और सैनिक पार्टी और हिंदुत्व के लिए कुबार्नी दे सकते हैं। सीएम ने भाजपा, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) और गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) की भी प्रशंसा करते हुए कहा कि यह मोदी ही थे जिन्होंने जम्मू-कश्मीर (Jammu and Kashmir) में अनुच्छेद 370 (Article 370) को खत्म करने और राम मंदिर (Ram Mandir) बनाने के बालासाहेब के सपने को पूरा किया। (आईएएनएस)

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

three × one =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
कांग्रेस के पास आज भी शीला दीक्षित का नाम
कांग्रेस के पास आज भी शीला दीक्षित का नाम