सांसदों के समर्थन में शरद पवार का उपवास

मुंबई। एनसीपी के नेता शरद पवार ने राज्यसभा से निलंबित सांसदों का समर्थन किया है। उन्होंने रविवार को राज्यसभा में पास हुए कृषि संबंधी विधेयकों को पास कराने के तरीके का भी विरोध किया। देश के सबसे वरिष्ठ राजनेताओं में से एक शरद पवार ने कहा कि उन्होंने इस तरह से बिल पास होते कभी नहीं देखा है। शरद पवार ने निलंबित सांसदों के समर्थन में एक दिन के उपवास का भी ऐलान किया।

शरद पवार ने कहा- वह सांसदों के निलंबन के खिलाफ चल रहे आंदोलन का हिस्सा बनेंगे। इनके समर्थन में एक दिन का उपवास करेंगे। राज्यसभा में कृषि बिल के मुद्दे पर पवार ने कहा- मैंने इस तरीके से कभी भी बिल पास होते हुए नहीं देखे। सरकार इन्हें जल्दी पास कराना चाहती थी, जबकि सदस्यों के इन्हें लेकर सवाल थे। शुरुआती तौर पर ऐसा ही लगता है कि वे चर्चा नहीं चाहते थे। पवार ने कहा- जब सदस्यों को इस पर जवाब नहीं मिला, तभी वे सदन के वेल में आ गए। इन सदस्यों को अपनी राय जाहिर करने को लेकर निलंबित किया गया। उप सभापति ने नियमों को प्राथमिकता नहीं दी।

चुनावी हलफनामे को लेकर आय कर विभाग की ओर से नोटिस मिलने पर पवार ने कहा कि सरकार राजनीतिक विरोधियों के खिलाफ प्रोपेगेंडा कर रही है। गौरतलब है कि शरद पवार, उनकी बेटी सुप्रिया सुले, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और उनके बेटे आदित्य ठाकरे सहित कुछ अन्य राजनेताओं को आय कर विभाग का नोटिस मिला है। शरद पवार ने इसकी पुष्टि की है। उन्होंने कहा है कि सरकार अपने राजनीतिक विरोधियों के खिलाफ नोटिस भिजवाकर उनके खिलाफ प्रोपेगैंडा खड़ा कर रही है। उन्होंने तंज करने के अंदाज में केंद्र सरकार के लिए कहा- वे मुझे बहुत चाहते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares