Amit Shah PC | पश्चिम बंगाल और असम चुनाव में हिंसा नहीं होना शुभ संकेत, बीजेपी के पक्ष में हुआ है बढ़ा मतदान प्रतिशत

Must Read

नई दिल्ली | पश्चिम बंगाल और असम में हिंसा से मुक्त बेहतर मतदान प्रतिशत बीजेपी के पक्ष में शुभ संकेत है। यह बात केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कही। दिल्ली में अपने आवास पर मीडिया से बातचीत में शाह ने साफ कहा कि दोनों राज्यों में बीजेपी की पूर्ण बहुमत वाली सरकार बनेगी। शाह ने कहा पहले चरण की 30 में से हम 26 से ज्यादा सीटें जीत रहे हैं, वहीं असम की 43 में से 37 से ज्यादा सीटें जीत रहे हैं। हालांकि राकांपा के प्रमुख शरद पवार से अहमदाबाद में हुई मुलाकात के बारे में अमित शाह बोले सभी बातें बताने की नहीं होती।


प्रेस वार्ता में अमित शाह ने कहा कि बंगाल में 84 प्रतिशत से ज्यादा मतदान और असम में 79 प्रतिशत से ज्यादा मतदान होना बीजेपी के पक्ष में है। यह मतदाताओं का उत्साह बताता है। अमित शाह ने कहा कि असम और बंगाल में इससे पूर्व चुनाव में हिंसा की खबरें आती थी, इस बार शांतिपूर्ण चुनाव है। यह लोकतंत्र के लिए शुभ संकेत है। उन्होंने बीजेपी सांसद मुकुल रॉय के ऑडियो लीक होने को लेकर बिना नाम लिए ममता सरकार पर निशाना साधा।

उन्होंने कहा कि दो भाजपा नेता फोन पर अधिकारियों के ट्रांसफर की बात पर चर्चा कर रहे थे तो क्या गलत है। यह मांग तो हमने पार्टी स्तर पर लिखित में की है। बड़ी बात तो यह है कि फोन किसने टेप किए। किस अधिकार के तहत टेप किए गए। आचार संहिता के बीच इसके लिए किसने सूचना दी, किसने अनुमति दी। गौतलब है कि TMC ने शनिवार को भाजपा नेता मुकुल रॉय और शिशिर बाजोरिया का एक ऑडियो जारी कर चुनाव आयोग से साठगांठ का आरोप लगाया था। शाह ने दावा किया कि उनकी पार्टी बंगाल में 200 और असम में पहले से ज्यादा सीटें लाकर सरकार बनाएंगे। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में असम में जो विकास हुआ है, वहां की हमारी सरकार ने जिस प्रकार से अभूतपूर्व विकास किया है, इसको बड़ा जन समर्थन मिल रहा है। डबल इंजन सरकार का कॉन्सेप्ट असम की जनता को भाजपा के आचरण से समझ में आया है।

उन्होंने अपने सम्बोधन में ममता बनर्जी पर भी आरोप जड़े। उन्होंने कहा कि ममता बनर्जी सरकार ने बंगाल में तुष्टीकरण, घुसपैठ, भ्रष्टाचार, कोविड से लड़ाई में लापरवाही, अंफान तूफान में लापरवाही और महिला सुरक्षा के मुद्दों पर भी कोताही बरती गई। बंगाल में जिस प्रकार का घोर निराशा का माहौल था। 27 साल के कम्युनिस्ट शासन के बाद बंगाल के लोगों को आशा थी कि ममता बनर्जी एक नई शुरुआत लेकर आएंगी। परन्तु दल का चिह्न और नाम बदल गया, लेकिन बंगाल वहीं का वहीं रहा बल्कि और गिरावट आई।

बंगाल में 79.79% और असम में 72.14% वोटिंग
पश्चिम बंगाल और असम की कुल 77 सीटों पर शनिवार को पहले फेज की वोटिंग हुई थी। इनमें बंगाल की 30 और असम की 47 सीटें शामिल हैं। इलेक्शन कमीशन के मुताबिक बंगाल में 79.79% और असम में 72.14% वोटिंग हुई।

- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

साभार - ऐसे भी जानें सत्य

Latest News

कैसा होगा ‘मोदी मंत्रिमंडल’ का फेरबदल?

बीजेपी हर हालत में उत्तर प्रदेश का चुनाव दोबारा जीतना चाहेगी। लिहाज़ा उत्तर प्रदेश से कुछ चेहरों को ख़ास...

More Articles Like This