सांसदों की कम उपस्थिति पर मोदी नाराज

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने संसद के दोनों सदनों में विधेयकों के पारित होने एवं चर्चा के समय अपने सांसदों की कम उपस्थिति और सदन में कई बार असंसदीय शब्द व्यवहार करने पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की नाराजगी का इजहार किया है। भाजपा संसदीय दल की आज यहां संसद के पुस्तकालय भवन में हुई बैठक में लोकसभा में उपनेता एवं रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि संसद में विधेयकों के पारित होने और चर्चा के समय सांसदों की उपस्थिति कम दिख रही है और प्रधानमंत्री मोदी इससे नाखुश हैं।

सूत्रों ने कहा कि सिंह ने पार्टी सांसदों को हिदायत दी है कि लोकसभा में नागरिकता संशोधन विधेयक पेश होने के वक्त वे बड़ी संख्या में उपस्थित रहें। यह विधेयक गृह मंत्री अमित शाह पेश करेंगे। उन्होंने कहा कि यह विधेयक उतना ही महत्वपूर्ण है जितना अनुच्छेद 370 पर आया विधेयक था। उन्होंने इस विधेयक को लेकर विपक्ष की आलोचनाओं को खारिज करते हुए कहा कि भाजपा हमेशा देश और लोगों की अखंडता के लिये काम करती है।

इसे भी पढ़ें :- सत्ता के लिए कांग्रेस-झामुमो कर रही डर और भ्रम की खेती: मोदी

सिंह ने सदन में कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी सहित कुछ अन्य विपक्षी नेताओं की आपत्तिजनक टिप्पणियों के बारे में सांसदों को नसीहत दी कि भाजपा के सांसदों को विपक्ष की ऐसी टिप्पणियों के प्रति आक्रामक होना चाहिए लेकिन मर्यादा का ध्यान रखते हुए उस स्तर तक नहीं जाना चाहिए जिस स्तर पर विपक्षी सदस्य जाते हैं।

बैठक के दौरान महिला एवं बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने एक पावर प्वाइंट प्रेजेंटेशन में देश में कुपोषण से निपटने में सरकार के प्रयासों के बारे में सांसदों को जानकारी दी। उन्होंने बताया कि मई 2018 से पोषण अभियान की शुरूआत की गई थी और आंगनवाडी केंद्रों में कार्यकर्ताओं को स्मार्ट फोन दिये गये हैं। इसके अलावा मातृ वंदना योजना तथा आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं के प्रशिक्षण की भी जानकारी दी।
बैठक में प्रधानमंत्री मोदी आज मौजूद नहीं थे।

उनका झारखंड के खूंटी एवं जमशेदपुर में चुनावी रैली को संबोधित करने का कार्यक्रम था। बैठक में पार्टी अध्यक्ष एवं गृह मंत्री अमित शाह, संसदीय कार्य मंत्री प्रल्हाद जोशी मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares