Parliament building site visited : प्रधानमंत्री ने रात में संसद भवन स्थल का दौरा
देश | दिल्ली| नया इंडिया| Parliament building site visited : प्रधानमंत्री ने रात में संसद भवन स्थल का दौरा

प्रधानमंत्री ने रात में संसद भवन निर्माण स्थल का दौरा किया, कार्य का निरीक्षण किया, जानें सेंट्रल विस्ट्रा प्रोजेक्ट की खासियत..

Parliament building site visited

दिल्ली |  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार देर शाम दिल्ली में नए संसद भवन के निर्माण स्थल का दौरा किया।  सुरक्षा हेलमेट के साथ सफेद कुर्ता-चूड़ीदार पहने वे चल रहे कार्य का निरीक्षण करते दिखे। कई तस्वीरों में पीएम मोदी को 971 करोड़ की अनुमानित लागत से बनने वाले भवन की निर्माण स्थिति का प्रत्यक्ष निरीक्षण करते हुए दिखाया गया है। निर्माण 2022 तक पूरा होने की उम्मीद है। अपनी तीन दिवसीय अमेरिका यात्रा से लौटने के बाद प्रधान मंत्री का व्यस्त कार्यक्रम था। जहां उन्होंने संयुक्त राष्ट्र महासभा को संबोधित किया और क्वाड शिखर सम्मेलन में भाग लिया। इससे पहले दिन में उन्होंने अमित शाह, राजनाथ सिंह और जेपी नड्डा के साथ बैठक की, जिसके बाद उन्होंने साइट का दौरा किया। उन्होंने लगभग 8.45 बजे साइट का दौरा किया और साइट पर लगभग एक घंटा बिताया। एक तस्वीर में प्रधानमंत्री को साइट पर कार्यकर्ताओं के साथ बातचीत करते देखा गया था। ( Parliament building site visited)

also read: देश के किसानों को आज नई सौगात देने जा रहे PM Narendra Modi, किसानों को होगा मुनाफा, खाद्यान्नों का भरेगा भंडार

कोरोना काल में नए संसद भवन को मिली आलोचना

नए संसद भवन स्थल पर प्रधान मंत्री की यह पहली यात्रा थी। जिसके निर्माण को महामारी के बीच विपक्षी दलों से काफी आलोचना मिली है। विपक्षी दलों का कहना है कि COVID-19 महामारी के प्रबंधन के लिए धन बचाने के लिए परियोजना को रोक दिया जाना चाहिए। नए संसद भवन का क्षेत्रफल 64,500 वर्ग मीटर होगा। इसमें भारत की लोकतांत्रिक विरासत, संसद सदस्यों के लिए एक लाउंज, एक पुस्तकालय, कई समिति कक्ष, भोजन क्षेत्र और पर्याप्त पार्किंग स्थान प्रदर्शित करने के लिए एक भव्य संविधान हॉल भी होगा। नए भवन में लोकसभा कक्ष में 888 सदस्यों के बैठने की क्षमता होगी, जबकि राज्यसभा में सदस्यों के लिए 384 सीटें होंगी।

संसद भवन के निर्माण में 238 करोड़ रुपये और एवेन्यू के पुनर्विकास के लिए 63 करोड़ रुपये खर्च ( Parliament building site visited)

पिछले साल दिसंबर में नई संसद की आधारशिला रखते हुए प्रधान मंत्री ने कहा था कि नया भवन “नए और पुराने के सह-अस्तित्व” का प्रतीक होने के साथ-साथ 21वीं सदी की देश की आकांक्षाओं को पूरा करेगा। उन्होंने कहा कि मौजूदा इमारत अब सेवानिवृत्त होने की ओर देख रही है। 21वीं सदी के भारत को एक नया संसद भवन देना हम सभी का दायित्व है। मुख्य सेंट्रल विस्टा परियोजना में एक नया संसद भवन, एक नया आवासीय परिसर, जिसमें कार्यालय और प्रधान मंत्री और उपराष्ट्रपति शामिल हैं।  इसमें विभिन्न मंत्रालयों के कार्यालयों को समायोजित करने के लिए नए कार्यालय भवन और एक केंद्रीय सचिवालय भी होगा। सरकार ने अब तक नए संसद भवन के निर्माण के लिए 238 करोड़ रुपये और सेंटर विस्टा एवेन्यू के पुनर्विकास के लिए 63 करोड़ रुपये खर्च किए हैं। इससे पहले सरकार ने कहा था कि चल रही सेंट्रल विस्टा पुनर्विकास परियोजना से सरकारी कार्यालयों के किराए के रूप में ₹ 1,000 करोड़ की बचत होगी। ( Parliament building site visited)

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
रामरहीमः हम तो डूब गए सनम
रामरहीमः हम तो डूब गए सनम