nayaindia PM Modi Back : 3 देशों की यात्रा कर स्वदेश के लिए रवाना...
ताजा पोस्ट | देश| नया इंडिया| PM Modi Back : 3 देशों की यात्रा कर स्वदेश के लिए रवाना...

पीएम मोदी 3 दिनों में 3 देशों की यात्रा कर स्वदेश के लिए रवाना…

PM Modi Back
Image Source : PMO

नई दिल्ली | PM Modi Back : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का 3 दिवसीय विदेश दौरा आज समाप्त हो गया. जिसके बाद यूरोप के तीन देशों की यात्रा पूरी करने के बाद गुरूवार को भारत के लिए रवाना हो गए. इस संबंध में विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने एक ट्वीट करके यह जानकारी दी. बागची ने पेरिस से रवाना होने के लिए विमान में सवार होने से ठीक पहले हाथ हिला कर अभिवादन करते हुए मोदी की एक तस्वीर भी साझा की. प्रवक्ता ने ट्वीट कर बताया कि प्रधानमंत्री की तीन देशों की यात्रा बेहद सार्थक रही. इस यात्रा से व्यापार एवं निवेश संबंध आगे बढ़े, नयी हरित साझेदारियां बनीं, नवोन्मेष तथा कौशल विकास के लिए सहयोग को बढ़ावा मिला. इसके साथ ही यूरोपीय साझेदारों के साथ सहयोग को और प्रगाढ़ करने का मौका मिला.

छोटी लेकिन, सार्थक यात्रा…

PM Modi Back : इसके पहले प्रधानमंत्री ने ट्वीट करके कहा कि उनकी फ्रांस की यात्रा बेहद सार्थक रही. उन्होंने ट्वीट कर कहा कि फ्रांस की मेरी यात्रा छोटी थी लेकिन बेहद सार्थक रही. राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों और मुझे विभिन्न विषयों पर बातचीत का मौका मिला. मैं गर्मजोशी भरे स्वागत के लिए उनका और फ्रांस की सरकार का आभार व्यक्त करता हूं. बता दें कि पीएम मोदी यूरोप के तीन देशों की यात्रा के आखिरी पड़ाव पर डेनमार्क से पेरिस आये थे. प्रधानमंत्री ने बुधवार को यहां मैक्रों से मुलाकात की और द्विपक्षीय तथा आपसी हितों के मुद्दों पर चर्चा की. इस दौरान दोनों नेताओं ने यूक्रेन के खिलाफ रूस की सैन्य कार्रवाई के मद्देनजर क्षेत्रीय और वैश्विक मुद्दों पर भी विचार-विमर्श किया.

इसे भी पढें- उपलब्धियों को ऊंचाईयां और खामियों की खिलाफत का द्वार

कई दृष्टि से महत्वपूर्ण थी पीएम मोदी की ये यात्रा

PM Modi Back : दोनों प्रतिनिधिमंडल स्तर की वार्ता होने से पहले फ्रांसीसी राष्ट्रपति के आधिकारिक आवास एलिसी पैलेस में मोदी और मैक्रों ने अकेले बातचीत भी की थी. मोदी की यह यात्रा यूक्रेन संकट के बीच और ऐसे वक्त में हो रही है, जब रूस के खिलाफ यूरोप लगभग एकजुट है. ऐसे में इस यात्रा को काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा है. इधर, भारत रूस के साथ ही यूरोप के देशों के साथ भी तालमेल बैठाने की कोशिश में लगा हुआ है. हालांकि भारत की इस विचारधारा से सबसे ज्यादा नाराज अमेरिका नजर आ रहा है.

इसे भी पढें-सत्ता-संगठन से संघ नाराज क्यों…?

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

eighteen − nine =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
केजरीवाल की बात सही नहीं हुई तो क्या करेंगे?
केजरीवाल की बात सही नहीं हुई तो क्या करेंगे?