Vaccine Given to Dead Person : 3 महीने पहले मरे हुए व्यक्ति को लगा दी वैक्सीन
कोविड-19 अपडेटस | ताजा पोस्ट | देश| नया इंडिया| Vaccine Given to Dead Person : 3 महीने पहले मरे हुए व्यक्ति को लगा दी वैक्सीन

अजब-गजब : 3 महीने पहले मरे हुए व्यक्ति को लगा दी वैक्सीन की दोनों डोज, परिवार भड़का

Vaccine Given to Dead Person :

अहमदाबाद | Vaccine Given to Dead Person : सरकार और स्वास्थ्य विभाग द्वारा किए जा रहे दावों में कितना दम हैं इसके प्रमाण आए दिन देखने को मिलते रहते हैं. ऐसी ही स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही का एक कारनामा गुजरात के अहमदाबाद शहर से सामने आया है. बताया जा रहा है कि परिवार के मुखिया की मौत 23 अप्रैल को ही कोरोना से हो गई थी. मृतक का नाम हरजीत लक्ष्मण परमार था और अपने घर में सिर्फ वहीं कमाने वाला था. लक्ष्मण की मौत के 3 महीने बाद अब परिवार के लोगों के पास मैसेज आया है कि लक्ष्मण को कोरोना का दूसरा टीका सफलतापूर्वक लगा दिया गया है. इस मैसेज के आने के बाद से परिवार वाले और नाराज हो गए. उनका कहना है कि सरकार हमारे साथ बहुत भद्दा मजाक कर रही है.

Vaccine Given to Dead Person :

सिस्टम पर फूटा परिवार का गुस्सा

Vaccine Given to Dead Person : लक्ष्मण के बेटे ने इस मैसेज पर कहा की सरकार लोगों की जान से खेल रही है. बेटे वर्षीभाई का कहना है कि बनासकोंठा में एक निजी अस्पताल में जब उनके पिता की मृत्यु हो गई है तो इस सिस्टम ने कोरोना का दूसरा डोज कैसे दे दिया. बेटे का कहना है कि जब पिता संक्रमित हुए थे तब हम सब उन्हें इलाज के लिए यहां से वहां घूमते रह गए थे. बेटे का कहना है कि उस समय अस्पतालों में उनके पिता को बेड तक नहीं मिला था. उन्होंने कहा की परिवार की आर्थिक स्थिति खराब होने के बाद भी निजी अस्पताल में भर्ती करना पड़ा.

इसे भी पढें – मास्क कोरोना से बचाव के लिए मुंह पर लगाया जाता है लेकिन उत्तराखंड में बीजेपी के इस मंत्री ने तो पैरों की सुरक्षा कर रखी है……

Vaccine Given to Dead Person :

वैक्सीन धोखाधड़ी का लगाया आरोप

वैक्सीन पर बोलते हुए बेटे का कहना है कि इलाके में कई ऐसे लोग हैं जो लाइन में खड़े हो-होकर परेशान हो गये हैं. लोग अपने काम से छुट्टी लेकर वैक्सीन लेने जा रहे हैं. इसके बाद भी लोगों को वैक्सीन नहीं मिल पा रही है. उन्होंने कहा कि सरकार को एक बार अपने सिस्टम पर ध्यान देने की जरूरत है इस तरह से मरे हुए लोगों के परिवार वालों के साथ मजाक करना सहीं नहीं है.

इसे भी पढें – नहीं रहीं बालिका वधू की ‘दादी सा’, 3 बार मिला था नेशनल अवार्ड

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow