राजस्थान : बेटी नहीं देवी है, दुर्गा नवमी के दिन हैलीकाॅप्टर से घर लाए दादा, चाॅपर के किराए के लिए चार लाख की फसल बेच दी

Must Read

Jaipur | कभी बेटियों के कत्ल के लिए कुख्यात कहे जाने वाले राजस्थान में नवजात बेटियों की आमद अब लोगों में उत्साह भरी है। यह उदाहरण ही नहीं बल्कि एक नजीर है, जिसने लोगों के मन में बेटियों के घर में आगमन को देवी के रूप में स्वीकार करना शुरू किया है। राजस्थान (Rajasthan) के नागौर (Nagour) में जन्मी एक बेटी का स्वागत उसके दादा ने इस प्रकार किया है जो सिर्फ राजस्थान के लिए ही नहीं बल्कि पूरे देश के लिए मिसाल है। राजस्थान के नागौर जिले में कुचेरा इलाके का गांव निम्बड़ी चांदावता (Nagour Kuchera Nimbdi Chandawata Village) और हरसोलाव में एक परिवार में 35 साल बाद बेटी का जन्म होने के कारण किसान दादा ने अपनी नवजात पोती के हेलीकॉप्टर बुक करवाया है, जिसमें सवार होकर नवजात पोती अपने ननिहाल हरसोलाव से आज पहली बार दादा के घर गांव निम्बड़ी चांदावता पहुंचेगी। दादा ने अपनी फसल बेचकर अपनी दुलारी के लिए जयपुर से हेलीकॉप्टर बुक करवाया।

इसे भी पढ़ें Earth Day 2021 : अभिनेत्री दीया मिर्जा ने कहा, पर्यावरण में बदलाव के लिए अधिकारी और उद्योग जिम्मेदार

राजस्थान में नवजात ने हेलीकॉप्टर से की लैंडिंग

नवजात के लिए हेलीकॉप्टर बुक करवाने का यह पहला मामला है। राजस्थान में संभवतया यह पहला मामला है जब कोई बच्ची पैदा होने के बाद हेलीकॉप्टर में बैठकर अपने घर में पहला कदम रखने आ रही हो। यह परिवार नागौर जिले के गांव निम्बड़ी चांदावता के मदनलाल प्रजापत है। मदनलाल किसान हैं। पोती के जन्म इस कदर जश्न मनाने की वजह से मदन लाल की हर जगह तारीफ हो रही है।

35 साल बाद देवी आने की खुशी

दरअसल, परिवार में 35 साल बाद बेटी का जन्म हुआ है। इस परिवार की खुशी का ठिकाना नहीं है। यह परिवार अनूठे अंदाज में मनाने की तैयारियों में जुटा है। यह बेटी हेली​कॉप्टर में बैठकर अपने ननिहाल से दादा के घर आएगी। निजी खेत में हेलीकॉप्टर उतारने के लिए बच्ची के दादा मदनलाल पुत्र कुम्हार ने नागौर जिला कलेक्टर से अनुमति मांगी है। इजाजत मिलने पर हेलीपेड बनाने का काम शुरू हो गया।

दादा हेलीकॉप्टर से लाए अपनी दुलारी को

हेलीकॉप्टर ने निम्बड़ी चांदावता से भरी उड़ान वन इंडिया हिंदी से बातचीत में मदनलाल के बेटे हनुमान प्रजापत ने बताया कि आज उनके लिए कभी नहीं भूल सकने वाला दिन है। अपनी नवजात बेटी को उसके ननिहाल से हेलीकॉप्टर में बैठाकर ला रहा हूं। सुबह नौ बजे हेलीकॉप्टर गांव निम्बड़ी चांदावता से गांव हरसोलाव के लिए उड़ान भर चुका है। शाम को बेटी को लेकर लौटेंगे।

दुर्गा नवमी के दिन घर आएगी देवी

बता दें कि हनुमान प्रजापत की पत्नी चुका देवी ने तीन मार्च को बेटी को जन्म दिया है। उसका नाम रिया उर्फ सिद्धि रखा है। फिलहाल रिया अपने ननिहाल गांव हरसोलाव में है। रिया को हेलीकॉप्टर में बैठाकर घर लाने के लिए गांव निम्बड़ी चांदावता व हरसोलाव के खेत में अस्थायी हेलीपेड बनवाए गए हैं। साथ ही इसके लिए नागौर जिला प्रशासन से अनुमति भी मांगी है।हनुमान राम प्रजापज के अनुसार बेटी 21 अप्रैल को पहली बार घर आएगी। इसकी दो वजह है। एक तो यह कि उस दिन दुर्गा नवमी है। जो महिला शक्ति की प्रतीक है। दूसरी वजह यह है कि 27 अप्रैल को चचेरे भाई नवरत्न की शादी है। इसलिए पत्नी व बेटी शादी पर भी आ रही है। बता दें कि हनुमान राम व चुका देवी की शादी मई 2020 को हुई थी। जिस प्रकार किसी देवी के आगमन पर सभी पलकें बिछाए देवी का स्वागत करते है।वैसे ही यदि माना जाए तो हर बेटी देवी का ही रूप है।तभी तो नवरात्र के नौ दिन देवी की पूजा और आखिरी दिन कन्या पूजन होता है। हम धरती को माता मानते है तो हम गंगा को देवी मानते है  हम विद्या को देवी मानते है तो हम धन को भी लक्ष्मी रूपी देवी मानते है। तो कल्पना कीजिए कि वर्तमान युग में भी बेटी का स्वागत इतनी ही भव्य तरीके से हो उस नज़ारे की कोई कल्पना ही इतनी सुखद है।

मैथी, जीरा व सरसों की फसल बेची

किसान हनुमान प्रजापत के अनुसार उनके परिवार की आय का जरिया खेती है। 80 बीघा जमीन पर खेती की जा रही है। घर में बहन के जन्म के 35 साल बाद बेटी जन्मी तो दादा मदन लाल प्रजापत और दादी मुन्नीदेवी ने तय किया कि वे अपनी पोती को हेलीकॉप्टर में बैठाकर घर लाएंगे। इसके लिए पांच-सात दिन पहले ही मदनलाल प्रजापत ने मैथी, जीरा और सरसों की फसल बेचकर चार लाख रुपए जुटाए हैं। इन्हीं रुपयों से जयपुर से पोती के लिए हेलीकॉप्टर बुक करवाया है।

रास्ते में बिछाए फूल

बुधवार सुबह गांव निम्बड़ी चांदावता से उड़ान भरे हेलीकॉप्टर में उसके पिता हनुमानराम के साथ फूफा अर्जुन प्रजापत, हनुमान राम के चचेरे भाई प्रेम व राजूराम सवार थे। वापसी में बच्ची रिया व उसकी मां चुका देवी भी सवार होकर आएंगी। बच्ची के स्वागत के लिए हेलीपेड से घर तक के करीब चार सौ मीटर के रास्ते को फूलों से सजाया गया है। बैंड बाजे की भी व्यवस्था की है।

इसे भी पढ़ें Bollywood Breaking : Salman Khan का बड़ा ऐलान, Eid पर ही रिलीज होगी मोस्ट अवेटेड फिल्म राधे

- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

साभार - ऐसे भी जानें सत्य

Latest News

Delhi में भयंकर आग से Rohingya शरणार्थियों की 53 झोपड़ियां जलकर खाक, जान बचाने इधर-उधर भागे लोग

नई दिल्ली | दिल्ली में आग (Fire in Delhi) लगने की बड़ी घटना सामने आई है। दक्षिणपूर्व दिल्ली के...

More Articles Like This