Highest rape cases registered in Rajasthan : राजस्थान में रेप के मामले दर्ज
देश | राजस्थान| नया इंडिया| Highest rape cases registered in Rajasthan : राजस्थान में रेप के मामले दर्ज

राजस्थान में 2020 में सबसे ज्यादा रेप के मामले दर्ज, जम्मू-कश्मीर में अपराध में 15% की बढ़ोतरी

Highest rape cases registered in Rajasthan

राजस्थान |  राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) द्वारा संकलित आंकड़ों के अनुसार राजस्थान में 2020 में 5310 ऐसे मामलों के साथ बलात्कार के सबसे अधिक मामले दर्ज किए गए। इसके बाद उत्तर प्रदेश में इसी अवधि में कुल 2769 बलात्कार के मामले दर्ज किए गए। 2,339 के साथ मध्य प्रदेश और 2,061 बलात्कार के मामलों के साथ महाराष्ट्र ऐसे मामलों की तीसरी और चौथी सबसे बड़ी संख्या है। देशभर में महिलाओं की स्थिति बलात्कार के मामले में बहुत खराब है। आए दिन हम रेप के मामले सुनते रहते है। देश में छोटी सी बच्ची से लेकर बड़ी महिलाओं तक कोई सुरक्षित नहीं है। ( Highest rape cases registered in Rajasthan)

also read: अब्बाजान Vs चचाजान : टिकैट के बयान से भड़के AIMIM नेता, कहा- मुजफ्फनगर दंगे के समय कहां छिपकर बैठे थे…

उत्तर प्रदेश में 49,835 ऐसे मामले दर्ज

हालांकि बलात्कार के मामलों के मामले में राजस्थान का ट्रैक रिकॉर्ड राज्यों में सबसे खराब था, लेकिन राज्य में महिलाओं के खिलाफ कुल अपराध में लगभग 16 प्रतिशत की गिरावट देखी गई। राज्य में ऐसे 34,535 मामले देखे गए। महिलाओं के खिलाफ कुल अपराधों के मामले में उत्तर प्रदेश में सबसे खराब आंकड़े थे, जिनमें 49,835 ऐसे मामले दर्ज किए गए थे।

जम्मू और कश्मीर में अपराध में 15 % की वृद्धि ( Highest rape cases registered in Rajasthan)

इस बीच, पिछले वर्ष की तुलना में 2020 में केंद्र शासित प्रदेश जम्मू और कश्मीर में अपराध में 15 प्रतिशत की वृद्धि हुई। जम्मू-कश्मीर और लद्दाख ने संयुक्त रूप से 2020 में 29,314 अपराध मामले देखे, जबकि 2019 में 25,408 मामले थे। अकेले लद्दाख ने 2020 में 403 अपराध मामले दर्ज किए। एनसीआरबी की रिपोर्ट के अनुसार, महिलाओं के खिलाफ अपराध 2019 में 3,069 मामलों से लगभग 11 प्रतिशत बढ़कर 2020 में 3,414 हो गए। ( Highest rape cases registered in Rajasthan)

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
राजद्रोह कानून की समीक्षा जरूरी
राजद्रोह कानून की समीक्षा जरूरी