Coronavirus in Rajasthan : सबसे ज्यादा जयपुर में कोरोना के सक्रिय मामले...
देश | राजस्थान| नया इंडिया| Coronavirus in Rajasthan : सबसे ज्यादा जयपुर में कोरोना के सक्रिय मामले...

राजस्थान में सबसे ज्यादा जयपुर में कोरोना के सक्रिय मामले, जानिए राज्य में कहां कितने मरीज

Coronavirus in Rajasthan :

Coronavirus in Rajasthan : राजस्थान में दो सौ से अधिक सक्रिय मरीज हैं जिनमें सर्वाधिक 67 जयपुर जिले में हैं। चिकित्सा विभाग के अनुसार शनिवार शाम तक राज्य में पन्द्रह मरीजों के और ठीक हो जाने से सक्रिय मरीजों की संख्या 237 रह गई जिनमें जयपुर के बाद कोरोना के सबसे अधिक 60 सक्रिय मरीज उदयपुर में हैं। इसके अलावा नागौर में 12, अलवर में 11, अजमेर एवं सीकर में 10-10 सक्रिय मरीज हैं। सत्रह जिलों में दस के आंकड़ें से कम ही सक्रिय मरीज हैं जबकि दस जिले कोरोना मुक्त हो चुके हैं जिनमें बारां, भरतपुर, भीलवाड़ा, चित्तौड़गढ़, चुरु, डूंगरपुर, बूंदी, झुंझुनूं, करौली एवं सिरोही शामिल है। राज्य में झालावाड़, कोटा, प्रतापगढ़ एवं जालोर जिला भी कोरोना मुक्त हो चुके थे लेकिन शनिवार को इन जिलों में कोरोना के नये मामले फिर से सामने आ गये।

Coronavirus in Rajasthan :

राज्य में पिछले कई दिनों से कोरोना के नये मामलों में ज्यादा वृद्धि नहीं देखेने को मिली और तीन अगस्त को तो यह गिरकर 11 पर आ गये थे। हालांकि पांच अगस्त को यह बढ़कर 40 पर पहुंच गए लेकिन इसके बाद लगातार दो दिनों में इनमें कमी आई। प्रदेश में शनिवार को 25 जिलों में कोई नया मामला सामने नहीं आया। राज्य में गत 31 जुलाई के बाद एक भी कोरोना मरीज की मौत का मामला भी सामने नहीं आया। राज्य में कोरोना से ठीक होने की दर भी 99़ 04 प्रतिशत पहुंच गई वहीं अब तक सामने आये नौ लाख 53 हजार 812 मामलों में केवल 0़ 02 प्रतिशत सक्रिय मरीज रहे हैं।

Coronavirus in Rajasthan : राज्य में कोरोना से पहली और दूसरी लहर में अब तक 8954 लोगों की मौत हो चुकी जिसमें सर्वाधिक मौतें 1970 जयपुर जिले में हुई। इससे जोधपुर में 1103, उदयपुर में 753, बीकानेर में 545, कोटा में 449, अजमेर में 410, सीकर में 335, अलवर में 307, पाली में 287, भरतपुर में 260, झालावाड़ में 187, बाड़मेर में 185, नागौर में 177, राजसमंद में 169, झुंझुनूं में 158, भीलवाड़ा 156, गंगानगर 150, चित्तौड़गढ 139, डूंगरपुर 131, हनुमानगढ़ 111, बांसवाड़ा में 104 लोगों की मौत हुई जबकि शेष जिलों में सौ से कम ही मौते हुई। प्रदेश में कोरोना से सबसे कम मौतें धौलपुर एवं बूंदी में दर्ज की गई जहां क्रमश: 48-48 मौतें हुई। कोरोना से राज्य के बाहर के 39 लोगों की भी मौत हुई हैं।

Coronavirus in Rajasthan :

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि प्रदेश में कोरोना की दूसरी लहर का प्रभाव अब नगण्य हो गया है लेकिन विभिन्न देशों तथा देश के कई राज्यों में कोविड के बढ़ते संक्रमण के मद्देनजर हमें अभी भी सतर्कता बरतने एवं कोरोना गाइडलाइन की लगातार पालना करनी होगी। उन्होंने कहा कि विभिन्न देशों तथा राज्यों में संक्रमण की स्थिति के मद्देनजर चिकित्सा विशेषज्ञों ने आशंका व्यक्त की है कि तीसरी लहर का प्रभाव आगामी महीनों में देखा जा सकता है।

इसे भी पढ़े-  मरे हुए बेटे का स्पर्म मांग रहे माँ-बाप, विधवा बहू ने किया बच्चे पैदा करने से इनकार, लेकिन….

Coronavirus in Rajasthan : चिकित्सा विभाग के शासन सचिव सिद्धार्थ महाजन ने बताया कि प्रदेश में 18 वर्ष से अधिक आयु के 52 प्रतिशत लोगों को वैक्सीन की पहली डोज तथा 16 प्रतिशत लोगों को दोनों डोज लग चुकी है। शनिवार तक राज्य में तीन करोड़ 48 लाख 84 हजार 583 लोगों को कोरोना का टीका लग चुका था जिनमें दो करोड़ 66 लाख 57 हजार 810 पहली डोज जबकि 82 लाख 26 हजार 773 दूसरी डोज लगी हैं। इनमें 18 से 44 आयु वर्ग के एक करोड़ 18 लाख 97 हजार 581 को पहली एवं इसी वर्ग के 12 लाख 43 हजार 159 लोगों दूसरी खुराक लगी। इसी तरह 45 वर्ष की आयु से अधिक वर्ग के एक करोड़ 35 लाख दो हजार 43 लोगों को पहली तथा 60 लाख 37 हजार 482 लोगों को दूसरी खुराक लगी।

राज्य में अब तक तीन करोड़ 40 लाख 75 हजार 280 कोरोना खुराक प्राप्त हुई जिनमें 43 लाख 36 हजार 340 कोवैक्सीन तथा दो करोड़ 97 लाख 38 हजार 940 कोविशील्ड शामिल है। शनिवार को भी चार लाख 82 हजार 570 कोविशील्ड प्राप्त हुई।

इसे भी पढ़े-  ‘दो दिल मिल रहे है’, कियारा आडवाणी और सिद्धार्थ मल्होत्रा का रोमांटिक अंदाज लगा रहा उनके प्यार पर मोहर – देखें PHOTOS

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
रद्दी शब्दजाल: पीएम मोदी का नया आदर्श वाक्य, कैबिनेट से प्रसारित की जाने वाली सूचना आसान भाषा में हो..
रद्दी शब्दजाल: पीएम मोदी का नया आदर्श वाक्य, कैबिनेट से प्रसारित की जाने वाली सूचना आसान भाषा में हो..