rainy season in mansarovar : बारिश आते ही खुली प्रशासन की पोल, पिंकसिटी में बारिश से हुए गढ्ढों से परेशान स्थानीय लोग
देश | राजस्थान| नया इंडिया| rainy season in mansarovar : बारिश आते ही खुली प्रशासन की पोल, पिंकसिटी में बारिश से हुए गढ्ढों से परेशान स्थानीय लोग

बारिश आते ही खुली प्रशासन की पोल, पिंकसिटी में बारिश से हुए गढ्ढों से परेशान स्थानीय लोग

rainy season in mansarovar

मानसून के शुरु होते ही देश के सभी राज्यों में बारिश का सिलसिला शुरु हो गया है। बात करें राजस्थान की तो पिछले कुछ दिनों से मरूधरा में जमकर बारिश हो रही है। बारिश आते ही प्रशासन की पोल-पट्टी खुल जाती है। पिंकसिटी में पिछले कुछ दिनों से जमकर बारिश हो रही है। ऐस में आप कहीं बाहर सड़क पर पैदल या अपने वाहन से गुजर रहे है तो आपको गढ्ढों का सामना करना पड़ सकता है। इन दिनों आपको बाहर संभल कर जाना चाहिए। प्रशासन के अनुसार शहर से सभी नदी-नालो और सड़के अच्छी अवस्था में है। लेकिन इनका सच बारिश के दिनों में पता चल जाता है। जयपुर में पिछले कुछ दिनों से सड़क धंसने के नित नये मामले सामने आ रहे हैं। सड़क भी कोई मामूली नहीं धंसती है बल्कि, कई फीट चौड़ी और गहरी धंसती है। इसमें दुपहिया वाहन से लेकर चौपहिया वाहन तक समा सकते हैं। राजधानी जयपुर की सड़कें बारिश के दौर में जानलेवा साबित हो सकती है। क्योंकि यहां सड़कों पर कदम-कदम पर खतरा है। सबसे ज्यादा खतरा एशिया की सबसे बड़ी कॉलोनी माने जाने वाली मानसरोवर में। ( rainy season in mansarovar ) इस इलाके में बारिश के दौर में अक्सर सड़क धंसने के मामले सामने आते हैं।

rainy season in mansarovar

also read: स्वतंत्रता दिवस पर लाल किले में ओलंपिक दल को आमंत्रित करेंगे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

मानसरोवर के थड़ी मार्केट और विजय पथ पर हुआ हादसा ( rainy season in mansarovar )

जयपुर के मानसरोवर के सबसे फेमस थड़ी मार्केट में 1 अगस्त को सड़क धंसने का मामला सुनने को मिला। इससे पहले थड़ी मार्केट का अगला चौराहा विजय पथ इलाके में 31 जुलाई को सड़क धंसने का मामला सामने आया। ( rainy season in mansarovar ) करीब एक हफ्ते पहले द्वारकादास पार्क के पास भी सड़क धंस चुकी है। माना जा रहा है कि अक्सर ड्रेनेज सिस्टम या पानी की लाइन लीक होने के कारण सड़क धंसने का मामला सामने आते हैं। लेकिन सरकारी स्तर पर होने वाली इस गलती का खामियाजा आम नागरिक को भुगतना पड़ता है। इन सभी हादसों में किसी के जान-माल का नुकसान होने का मामला सामने नहीं आया है।

मिट्टी के कट्टों बचाते है खतरे से

मानसून के दौर में सड़क धंसने की शिकायत आते ही उनमें नगर निगम फिलहाल मिट्टी के कट्टे  और अन्य सामग्री से उसे भरता है। क्योंकि बारिश में सड़क की रिपेयरिंग सम्भव नही हो पाती है। आपको बता दें कि मानसरोवर को हाउसिंग बोर्ड ने कई साल पहले बसाया था। उसके बाद ये कॉलोनी नगर निगम को ट्रान्सफर की गई थी। ( rainy season in mansarovar ) लेकिन पिछले कई बरसों से इस इलाके में सड़क धंसने के मामले सामने आते रहे हैं।

rainy season in mansarovar

शिकायतें मिलने पर तुरंत कराते हैं दुरुस्त ( rainy season in mansarovar )

मानसरोवर के अलावा कई और जगह भी बारिश के मौसम में सड़क धंसने या टूटने के मामले सामने आ रहे हैं। ( rainy season in mansarovar ) सड़कों पर बने गड्डे दुर्घटना का सबब बन रहे हैं। इस बारे में ग्रेटर नगर निगम की कार्यवाहक मेयर शील धाभाई का कहना है कि ऐसी शिकायतें आते ही उन्हें दुरुस्त करने के निर्देश दिए हुए हैं। पुरानी ड्रेनेज लाइन पर पड़ते दबाव और पानी की लाइन के लीकेज को भी वे इसकी वजह मानती हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow