Rajasthan : नहीं रहे पहले दलित CM जगन्नाथ पहाड़िया, महादेवी वर्मा पर टिप्पणी की तो ले लिया इस्तीफा, प्रदेश में की थी शराब बंद - Naya India rajasthan ex cm jagannath pahadia died due to covid in gurugram bihar haryana ex governer
राजनीति | देश | राजस्थान| नया इंडिया| %%title%% %%page%% %%sep%% %%sitename%% rajasthan ex cm jagannath pahadia died due to covid in gurugram bihar haryana ex governer

Rajasthan : नहीं रहे पहले दलित CM जगन्नाथ पहाड़िया, महादेवी वर्मा पर टिप्पणी की तो ले लिया इस्तीफा, प्रदेश में की थी शराब बंद

Jaipur | कोरोना के चलते दुनिया से रुखसत होने वाले नेताओं में राजस्थान के पहले दलित मुख्यमंत्री (Rajasthan First Dalit CM) जगन्नाथ पहाड़िया (Jagannath Pahadia) का नाम भी जुड़ गया है। बिहार-हरियाणा के राज्यपाल (Bihar & Haryana Governer) भी रहे वरिष्ठ कांग्रेस ​नेता जगन्नाथ पहाड़िया का कोविड (Covid 19) के चलते गुरुवार देर रात गुड़गांव के अस्पताल में निधन हो गया। सरकार ने उनकी मौत पर एक दिन का सरकारी अवकाश और शोक की घोषणा की है।

आपको बता दें कि पहाड़िया राजस्थान के ऐसे पहले सीएम थे जो अनुसूचित वर्ग से आते थे और छायावाद की ख्यातनाम लेखिका महादेवी वर्मा पर आपत्तिजनक टिप्पणी के चलते मात्र 13 महीने में उन्हें अपनी कुर्सी गंवानी पड़ी थी। उस समय इंदिरा गांधी का राज था और पहाड़िया के खासमखास संजय गांधी भी नहीं रहे थे। इसलिए पहाड़िया को इस्तीफा देना पड़ा। यही नहीं वे पूर्ण शराब बंदी लागू करने वाले पहले मुख्यमंत्री थे। इंदिरा गांधी के शासनकाल में वे वित्त मंत्री भी रहे थे। वे चार बार सांसद, चार बार विधायक रहे थे। बिहार और हरियाणा के राज्यपाल भी रहे। उनसे पहले और उनके बाद आज तक किसी दलित को राजस्थान का सीएम बनने का मौका नहीं मिल पाया है। राजस्थान सरकार ने उनकी मौत पर एक दिन का सरकारी अवकाश और शोक की घोषणा की है। सरकारी बिल्डिंग्स पर तिरंगा आधा झुका रहेगा। साथ ही सरकारी सम्मान से पहाड़िया का अंतिम संस्कार होगा।

 

इन पदों पर रहे
6 जून 1980 से 14 जुलाई 1981 तक राजस्थान के सीएम
1957, 67, 71 व 80 में चार बार सांसद बने
1980, 1985, 1999 और 2003 में विधायक रहे
इंदिरा गांधी कैबिनेट में मंत्री रहे। वित्त, उद्योग, श्रम, कृषि जैसे विभाग रहे।
1989 से 90 तक एक साल के लिए बिहार
2009 से 2014 तक हरियाणा के राज्यपाल रहे

पंडित नेहरू के कहने पर चुनाव लड़ा था
पहाड़िया बेबाक थे और जो भी मन में आए वे कह देते थे। 1957 में दिग्गज नेता मास्टर आदित्येंद्र पहाड़िया को तत्कालीन पीएम पंडित जवाहरलाल नेहरू से मिलाने ले गए। पहाड़िया मात्र 25 साल के थे। पंडित नेहरू प्रदेश के बारे में पूछा तो पहाड़िया ने बेबाकी से कहा था कि बाकी तो ठीक है लेकिन दलितों को प्रतिनिधित्व नहीं मिल रहा। इस पर नेहरू ने उन्हें चुनाव लड़ने को कहा। पहाड़िया तैयार हो गए और 1957 में पहाड़िया सवाईमाधोपुर से सांसद का चुनाव जीते। वे संजय गांधी के खास थे। उनके सीएम बनने का सबसे बड़ा कारण संजय गांधी से नजदीकी ही था। संजय गांधी के ​निधन के बाद उनकी धमक कम हो गई, हांलाकि वे 2008 तक सक्रिय राजनीति में रहे।

महादेवी वर्मा की कविता पर टिप्पणी के बाद पहाड़िया को सीएम पद से हटाया था
कहा जाता है कि जयपुर में लेखकों के एक सम्मेलन में पहाड़िया भी थे और देश के ख्यातनाम लेखक भी। 10 जनवरी 1981 को रविन्द्र मंच में वर्मा मुख्य अतिथि थीं। अध्यक्ष के तौर पर बोलते हुए पहाड़िया बोले महादेवी वर्मा की कविताएं मेरे कभी समझ नहीं आईं कि वे क्या कहना चाहती हैं। उनकी कविताएं आम लोगों के सिर के ऊपर से निकल जाती हैं, मुझे भी कुछ समझ में नहीं आतीं। आज का साहित्य जन—जन को समझ आए ऐसा होना चाहिए। लेखकों की मंडली भड़क गई और पहाड़िया की शिकायत इंदिरा गांधी से हुई। पहाड़िया की सीएम पद से रुखसती हो गई। राजनीतिक पंडित बताते हैं कि पहाड़िया को सीएम की कुर्सी से हटाने का असली कारण उनका विरोध था। उनके पैरोकार संजय गांधी भी दुनिया में नहीं रहे थे। पहाड़िया का जाना देश की शुरूआती राजनीति युग के एक और नेता का अवसान है।

विशेष आग्रह करके दवा

डीआरडीओ की ओर से नई लांच की गई दवा भी पहाड़िया की पत्नी और पूर्व सांसद श्रीमती शांति पहाड़िया के नाम से 11 मई को इश्यू हुई है। उन्हें भी कोरोना संक्रमित बताया गया है।

पहाड़िया के निधन पर राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, विधानसभा स्पीकर डॉ0 सीपी जोशी, कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष गोविंदसिंह डोटासरा, भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनिया, विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष गुलाबचंद कटारिया, पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे, पूर्व उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट सहित कांग्रेस-भाजपा के कई नेताओं ने शोक जताया है।

By Pradeep Singh

Experienced Journalist with a demonstrated history of working in the newspapers industry. Skilled in News Writing, Editing. Strong media and communication professional. Many Time Awarded by good journalism. Also Have Two Journalism Fellowship. Currently working with Naya India.

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *