nayaindia Rajiv Gandhi Case : SC ने पेरारिवलन की रिहाई का दिया आदेश, 30 साल बाद...
ताजा पोस्ट | देश| नया इंडिया| Rajiv Gandhi Case : SC ने पेरारिवलन की रिहाई का दिया आदेश, 30 साल बाद...

Rajiv Gandhi Case : SC ने पेरारिवलन की रिहाई का दिया आदेश,30 साल बाद आएंगे जेल से बाहर…

Rajiv Gandhi Case :
Image Source : Social media

नई दिल्ली | Rajiv Gandhi Case : देश की सर्वोच्च अदालत ने राजीव गांधी हत्याकांड मामले में दोषी ए.जी. पेरारिवलन को रिहा करने का बुधवार को आदेश दिया. बता दें कि आरोपी पिछले 30 सालों से जेल में बंद है और उम्रकैद की सजा काट रहा था. न्यायमूर्ति एल. नागेश्वर राव की अध्यक्षता वाली एक पीठ ने अनुच्छेद 142 के तहत अपने विशेषाधिकार का इस्तेमाल करते हुए पेरारिवलन को रिहा करने का आदेश दिया. पीठ ने सुनवाई के दौरान कहा कि राज्य मंत्रिमंडल ने प्रासंगिक विचार-विमर्श के आधार पर अपना फैसला किया था. अनुच्छेद 142 का इस्तेमाल करते हुए, दोषी को रिहा किया जाना उचित होगा.

आचरण को लेकर नहीं मिली कोई शिकायत

Rajiv Gandhi Case : संविधान का अनुच्छेद 142, SC को विशेषाधिकार देता है, जिसके तहत संबंधित मामले में कोई अन्य कानून लागू ना होने तक उसका फैसला सर्वोपरि माना जाता है. पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के हत्यारे एजी पेरारिवलन को न्यायालय ने यह देखते हुए 9 मार्च को जमानत दे दी थी कि सजा काटने और पैरोल के दौरान उसके आचरण को लेकर किसी तरह की शिकायत नहीं मिली. शीर्ष अदालत 47 वर्षीय पेरारिवलन की उस याचिका पर सुनाई कर रही थी, जिसमें उसने ‘मल्टी डिसिप्लिनरी मॉनिटरिंग एजेंसी’ (एमडीएमए) की जांच पूरी होने तक उम्रकैद की सजा निलंबित करने का अनुरोध किया था.

इसे भी पढें- Visa Scam Case : कार्ति चिदंबरम के करीबी भास्कर रमन को CBI ने किया गिरफ्तार…

2014 में बदला गया था फैसला…

Rajiv Gandhi Case : बता दें कि तमिलनाडु के श्रीपेरुम्बदुर में 21 मई, 1991 को एक चुनावी रैली के दौरान एक महिला आत्मघाती हमलावर ने खुद को विस्फोट से उड़ा लिया था. इसमें राजीव गांधी मारे गए थे. महिला की पहचान धनु के तौर पर हुई थी. न्यायालय ने मई 1999 के अपने आदेश में चारों दोषियों पेरारिवलन, मुरुगन, संथन और नलिनी को मौत की सजा बरकरार रखी थी. शीर्ष अदालत ने 18 फरवरी 2014 को पेरारिवलन, संथन और मुरुगन की मौत की सजा को उम्रकैद में तब्दील कर दिया था. न्यायालय ने केंद्र सरकार द्वारा उनकी दया याचिकाओं के निपटारे में 11 साल की देरी के आधार पर फांसी की सजा को उम्रकैद में बदलने का निर्णय किया था.

इसे भी पढें-चिंतन शिविर के बाद फिर बढ़ी कांग्रेस की चिंता, अब हार्दिक पटेल ने दिया इस्तीफा…

Leave a comment

Your email address will not be published.

2 × 3 =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
मोदी पर अब स्वामी का ज्यादा सीधा हमला
मोदी पर अब स्वामी का ज्यादा सीधा हमला