राहत! कोरोना वायरस से जंग लड़ने में शामिल हुई एक और दवा, सरकार ने दे दी मंजूरी - Naya India
देश| नया इंडिया|

राहत! कोरोना वायरस से जंग लड़ने में शामिल हुई एक और दवा, सरकार ने दे दी मंजूरी

कोरोना वायरस भारत में बेकाबू होता जा रहा है। एक दिन में 4 लाख पार मामले दर्ज होना कोई सामान्य बात नहीं है। कोरोना से बचने के लिए भारत के वैज्ञानिकों ने वैक्सीन तो बना ली थी लेकिन कोई कारगर दवाई नहीं बन पाई थी लेकिन इस कड़ी में एक खुशखबरी आई है। भारतीय वैज्ञानिकों ने कोरोना के इलाज की सबसे बेहतर दवा ढूंढ ली है। इसे भारत सरकार से मंजूरी भी मिल गई है और जल्द ही ये दवा बाजार में भी आ जाएगी। इस दवा को  डीआरडीओ के इंस्टीट्यूट ऑफ न्यूक्लियर मेडिसिन एंड अलायड साइंसेस और हैदराबाद सेंटर फॉर सेल्युलर एंड मॉलिक्युलर बायोलॉजी ने बनाया है। इसे टू डॉक्सी डी ग्लूकोज नाम दिया गया है।

इसे भी पढ़ें Corona : वैज्ञानिकों ने बताया भारत में कब होगा कोरोना के पीक का समय और इस महामारी का अंत

ट्रायल में सफल रही यह दवा

डॉ सुधीर चंदना ने कहा कि हमने अप्रैल 2020 में टेस्टिंग शुरू की थी और पहली बार में ही अच्छे नतीजे मिले। मई 2020 में क्लीनिकल ट्रायल की इजाजत मिली,जो अक्टूबर तक चली। इस दवा को अभी 2-deoxy-D-glucose (2-DG) नाम दिया गया है। जो जल्द ही इलाज के लिए उपलब्ध होगी। ऐसा देखा गया है कि अस्पताल में भर्ती मरीजों को यह दवा देने से वह जल्दी ठीक हो जाते हैं।

मरीजों में नहीं आ रही ऑक्सीजन की समस्या

दिल्ली में डीआरडीओ के INMAS डिपार्टमेंट के वैज्ञानिक डॉ अनंत नारायण भट्ट ने कहा कि से ट्रायल के तीसरे दौर में हमनें बड़े स्तर पर टेस्टिंग की, जिसके नतीजे शानदार रहे। उन्होंने कहा कि इस दवा के इस्तेमाल से ऑक्सीजन की कमी की समस्या आई ही नहीं। उन्होंने कहा कि हमें दवा के इमरजेंसी इस्तेमाल की इजाजत मिल गई है। जल्द ही डॉ रेड्डीज लैब के साथ मिलकर इस दवा का उत्पादन बड़े स्तर पर शुरू होगा। उन्होंने बताया कि ये दवा पाउडर फॉर्म में है, जिसे पानी के सात सुबह शाम आराम से इस्तेमाल किया जा सकता है। क्लीनिकल ट्रायल में पाया गया कि यह दवा लेने वाले मरीज दूसरे मरीजों की तुलना में ढाई दिन पहले ठीक हो गए। यह दवा ट्रायल में सफल रही और जल्द ही इस दवा का उत्पादन शुरु कर दिया जाएगा।इस दवा का मरीजों पर कोई साइड इफेक्ट भी नहीं हो रहा है। यह दवा कोरोना वायरस पर कारगर साबित हो सकती है। कोरोना के मरीजों पर यह दवा कामयाब सिद्ध हुई है।

ऐसे करती है काम

ये दवा संक्रमित कोशिकाओं में जमा हो जाती है और वायरल सिंथेसिस और एनर्जी प्रोडक्शन कर वायरस को बढ़ने से रोकती है। इस दवा की खास बात ये है कि ये वायरस से संक्रमित कोशिकाओं की पहचान करती है। और तेजी से वो इनसे निपटती हैं। उम्मीद की जा रही है कि इस दवा से कोरोना संक्रमितों की संख्या कम हो जाएगी और कोरोना के मरीज जल्द ही ठीक भी हो जाएगे।

Latest News

नहीं निकलती सरकारी नौकरी तो मिलिए 2 भाइयों की जोड़ी से, अब तक 16 बार हो चुका है चयन…
नई दिल्ली । Government job Cracked 11 times: गरीब और मध्यमवर्गीय परिवार के लिए सरकारी नौकरी का कितना महत्व है या बात…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

});