जानें क्या है ‘ड्राइव इन टीकाकरण केंद्र’ जिसके लिए Delhi HighCourt में दायर हुई याचिका

Must Read

New Delhi: देशभर में कोराना की दूसरी लहर कहर बरसी रही है. एक दिन में 4 लाख से ज्यादा से नये मामले और 4 हजार से ज्यादा मौते सामने आ रहे हैं. ऐसे में देश के लोगों को अब कोरोना की वैक्सीन से ही उम्मीदें हैं. केंद्र सरकार ने भी कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए अब वैक्सीन को बाजार में और 18+ के लोगों के लिए सरकारी टीका केंद्रों उपलब्ध करा दिया है. लेकिन अब कोरोना के टीकाकरण को लेकर एक नया मामला सामने आया है. जानकारी के अनुसार  मुंबई में बढ़ते सक्रंमण को देखते हुए राज्य सरकार ने ‘ड्राइव इन टीकाकरण केंद्र’ के शुरीआत की थी. सरकार का इसके पीछे का मकसद था कि लोग इस पहल से आसानी से टीका ले सकेंगे. इन हालातों में लोगों को वैक्सीन के लिए ज्यादा परेशान नहीं होना पड़ेगा. इसके साथ ही कोरोना की वैक्सीन खुले में देने से संक्रमण का भी कम खतरा होगा.  लेकिन अब दिल्ली में मुंबई की ही तरह ‘ड्राइव इन टीकाकरण केंद्र’ की मांग होनी शपरू हो गई है.

दिल्ली हाईकोर्ट में दायर हुई याचिका

दिल्ली उच्च न्यायालय में शनिवार को एक जनहित याचिका दायर कर केंद्र और दिल्ली सरकार को मुंबई की तरह देश की  राजधानी दिल्ली में भी ‘ड्राइव इन टीकाकरण केंद्र’ की शुरूआत करने की मांग की गई है. इसके लिए कहा गया है कि सरकार को वैक्सीन के लिए स्टेडियम सहित खुले स्थान पर करने का विचार करना चाहिए. याचिका दायर करने वाले दिल्ली के कारोबारी अमनदीप अग्रवाल चाहते हैं कि मुंबई की तरह दिल्ली में भी ड्राइव इन टीकाकरण केंद्र स्थापित किए जाए ताकि लोग टीका लगवाने के समय एक दूसरे के संपर्क में नहीं आए और सामाजिक दूरी का पालन कर सके.

इसे भी पढें- खौफनाक..कोविड संक्रमित के अंतिम संस्कार में शामिल हुए 150 लोग, 21 के लिए अंतिम बन गया यह अंतिम संस्कार

अस्पतालों से दबाव होगा  कम

वकील ऋषभ अग्रवाल ने दायर याचिका में कहा है कि कर्फ्यू या लॉकडाउन लगाने का उद्देश्य असफल हो जाएगा. अगर लोग टीकाकारण केंद्रों और अस्पतालों में टीका लगवाने के लिए बंद स्थान पर कतार में या भीड़ में खड़े होंगे. याचिका में कहा गया कि खुले में टीकाकरण केंद्र स्थापित करने से चिकित्सा कर्मियों और अस्पताल के आधारभूत संरचना पर भी दबाव कम होगा.  जो पहले ही राष्ट्रीय राजधानी में कोविड-19 मरीजों की बढ़ती संख्या की वजह से चुनौती का सामना कर रहे हैं.  याचिकाकर्ता ने कहा कि  ड्राइव इन टीकाकरण केंद्र लोगों को यथाशीघ्र बिना किसी अन्य के संपर्क में आए टीकाकरण कराने के लिए प्रोत्साहित करेंगे

इसे भी पढें- लक्षद्वीप, हरियाणा और असम में हुई सबसे अधिक वैक्सीन की बर्बादी, जानें क्या थी वजह?

- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

साभार - ऐसे भी जानें सत्य

Latest News

Delhi में भयंकर आग से Rohingya शरणार्थियों की 53 झोपड़ियां जलकर खाक, जान बचाने इधर-उधर भागे लोग

नई दिल्ली | दिल्ली में आग (Fire in Delhi) लगने की बड़ी घटना सामने आई है। दक्षिणपूर्व दिल्ली के...

More Articles Like This