• डाउनलोड ऐप
Thursday, May 13, 2021
No menu items!
spot_img

Corona Alert: RT-PCR  पर नहीं रहा भरोसा तो अब बार-बार CT scan करा रहे हैं मरीज,एम्स निदेशक ने कहा- बेवकूफी ना करें हो सकता है कैंसर 

Must Read

New Delhi: देशभर में कोरोना की दूसरी लहर से हाहाकार मचा हुआ है. देश के लोगों को यह समझ ही नहीं आ रहा है कि वे क्या करें और क्या ना करें. हाल में देश में कुछ ऐसे हाई-फाई कोरोना के मामले सामने आए हैं जिनमें आरटी पीसीआर टेस्ट कराने पर कोरोना की रिपोर्ट नेगेटिव आई लेकिन CT SCAN में पता चला कि फेफड़े 80% से ज्यादा संक्रमित हो चुके हैं. इसके बाद मरीजों की कोरोना से मौत भी हो गई. इन मामलों में वरिष्ठ पत्रकार रोहित सरदाना का भी नाम शामिल है. ऐसे में अब लोगों को कोरोना के थोड़े लक्षण होने पर भी वे बार-बार RT-PCR की टेस्ट करा रहे हैं.  जब कोरोना की रिपोर्ट नेगेटिव आ रही है तो फिर वह CT SCAN कराने के लिए चक्कर लगा रहे हैं. जानकारी के अनुसार हर 3 दिन में कुछ लोग CT SCAN कराने अस्पताल पहुंच रहे हैं. लोग इस बात से डरे हुए हैं कि कहीं उन्हें भी फेफड़ा इनफैक्ट होने के बाद उन्हें इसकी जानकारी ना मिले इसलिए वह बार-बार CT SCAN कराने अस्पताल जा रहे हैं.

क्या कहा AIMS निदेशक रणदीप गुलेरिया ने

इस पूरे प्रकरण पर AIMS के निदेशक डॉ रणदीप गुलेरिया ने कहा कि हमें जानकारी मिल रही है कि लोग बार-बार सिटी स्कैन कराना चाह रहे हैं. उन्होंने कहा कि कोरोना से जो हालात बन गए हैं उनसे लोगों का डरना स्वाभाविक है.  लेकिन बार-बार CT SCAN कराना भी इलाज नहीं है.  डॉक्टर गुलेरिया ने कहा कि CT scan में थोड़े बहुत खून के चकत्ते दिखाई देते हैं जिससे मरीज परेशान हो जाते हैं और उन्हें हार्ड अटैक भी आ सकता है.

सांस लेने में तकलीफ नहीं तो ना हो परेशान

डॉ गुलेरिया ने कहा कि अगर आपको कोरोना संक्रमित हैं मगर आप को सांस लेने में कोई परेशानी नहीं हो रही और आपका ऑक्सीजन लेवल ठीक है, आप को तेज बुखार नहीं आ रहा हो, तो आपको बिल्कुल घबराने की जरूरत नहीं है. उन्होंने कहा कि कोरोना पॉजिटिव मरीज को भी ज्यादा दवाई नहीं लेनी चाहिए.  यह दवाई उल्टा असर करती है और मरीज की सेहत खराब होने लगती है. उन्होंने कहा कि इन हालातों में कोई भी खुद डॉक्टर ना बने वरना आप को भारी नुकसान उठाना पड़ सकता है.

इसे भी पढें- केंद्रीय मंत्री थावर चंद गहलोत की बेटी का कोरोना से निधन, इलाज के दौरान आया था दिल का दौरा

CT scan से हो सकता है कैंसर का खतरा

AIMS निदेशक ने कहा कि होम आइसोलेशन में रह रहे लोग शांत रहे. कोशिश करें कि जितनी हो सके भाप लें और गर्म पानी पीते रहे. उन्होंने कहा कि हमें सुनने को आ रहा है कि कई मरीज खुद पर खुद CT SCAN कराना चाह रहे हैं.  वे बार-बार हर चौथे दिन डॉक्टरों को CT SCAN के लिए प्रेशर डाल रहे हैं. गुलेरिया ने कहा कि CT SCAN कोरोना का इलाज नहीं है लेकिन बार-बार रेडिएशन के संपर्क में आने से बाद में आपको कैंसर की संभावना हो सकती है.

इसे भी पढें- SC ने कहा-प्रेस लोकतंत्र का पहरेदार, कोर्ट की खबर देने से नहीं रोक सकते

- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest News

सुशील मोदी की मंत्री बनने की बेचैनी

बिहार के पूर्व उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी को जब इस बार राज्य सरकार में जगह नहीं मिली और पार्टी...

More Articles Like This