Sputnik Vaccine: भारतीयों को अगले हफ्ते से लगाई जाएगी रूसी स्पूतनिक वैक्सीन! सिंगल डोज वाला है वर्जन

Must Read

नई दिल्ली। रूस की स्पूतनिक वैक्सीन (Sputnik Vaccine) का भारत में इंतजार खत्म हो गया है. नीति आयोग ने कहा है कि अगले हफ्ते से स्पूतनिक वैक्सीन देश में उपलब्ध हो जाएगी. नीति आयोग के सदस्य वीके पॉल ने कहा कि स्पूतनिक की एक बड़ी खेप भारत पहुंच चुकी है, अगले हफ्ते तक देश में उपलब्ध भी हो जाएगी. जुलाई महीने से ही रूस की इस वैक्सीन का देश में निर्माण शुरू हो जाएगा और करीब 15.6 डोज का उत्पादन किया जाएगा.

ये भी होगा ख़ास
– रूस की स्पूतनिक वी वैक्सीन सिंगल डोज वाला वर्जन है. इसे एक ही शॉट लगवाना होगा.
– स्पूतनिक लाइट ( Sputnik Lite ) नाम की इस वैक्सीन के 80 फीसदी तक प्रभावी होने का दावा किया गया है.

यह भी पढ़ेंः- OMG : वैक्सीन बनाने वाली कंपनी भारत बायोटेक के 50 कर्मचारी कोरोना संक्रमित,सोशल मीडिया यूजर्स ने कहा कि कर्मचारियों का टीकाकरण क्यों नहीं..

उन्होंने कहा कि FDA और WHO से जिन वैक्सीन को मंजूरी मिली है वो कंपनी भारत आ सकती है. एक से दो दिनों में आयात लाइसेंस दिया जाएगा. अभी कोई भी आयात लाइसेंस लंबित नहीं है. डॉ. वीके पॉल ने कहा कि अगस्त से दिसंबंर में आठ वैक्सीन की 216 करोड़ डोज हमारे पास होगी. नीति आयोग के वीके पॉल के अनुसार अब राज्यों को वैक्सीन आयात करने के लिए किसी भी तरह के लाइसेंस की जरूरत नहीं पड़ेगी. राज्यों को अब वैक्सीन के मामले में पूरी स्वतंत्रता दी गई है.

यह भी पढ़ेंः- WHO ने इशारों में कहा – चुनाव और कुंभ के कारण फैला कोरोना ,इवेंट्स में बरती गई कोताही

डॉ. वी. के पॉल ने कहा कि भारत में अधिक से अधिक कोरोना की वैक्सीन उपलब्ध कराने के लिए लगातार हर स्तर पर काम हो रहा है. अगस्त से दिसंबर तक कुल 216 करोड़ वैक्सीन डोज उपलब्ध होने की उम्मीद है. इसमें 55 करोड़ कोवैक्सीन की डोज, 75 करोड़ कोविशील्ड की डोज, 30 करोड़ बायो ई सब यूनिट वैक्सीन की डोज, पांच करोड़ जायडस कैंडिला डीएनए की डोज, 20 करोड़ नोवावैक्सीन की डोज, 10 करोड़ भारत बायोटेक नेजल वैक्सीन की डोज, 6 करोड़ जिनोवा की डोज और 15 करोड़ डोज स्पूतनिक की उपलब्ध होगी.

आपको ये भी बता दें कि इस समय देश में भारत बायोटेक की कोवैक्सीन और सीरम इंस्टीट्यूट की कैविशिल्ड वैक्सीन लोगों को दी जा रही है. सरकार की कोशिश है कि वैक्सीन का उत्पादन बढ़ाई जाए.

- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

साभार - ऐसे भी जानें सत्य

Latest News

‘चित्त’ से हैं 33 करोड़ देवी-देवता!

हमें कलियुगी हिंदू मनोविज्ञान की चीर-फाड़, ऑटोप्सी से समझना होगा कि हमने इतने देवी-देवता क्यों तो बनाए हुए हैं...

More Articles Like This