Latest Survey report 2021 : 15 राज्यों में देश के 48% स्कूली बच्चे अब पढने...
ताजा पोस्ट | देश| नया इंडिया| Latest Survey report 2021 : 15 राज्यों में देश के 48% स्कूली बच्चे अब पढने...

Survey report : 15 राज्यों में देश के 48% स्कूली बच्चे अब पढने-लिखने में भी अक्षम

Latest Survey report 2021 :

नई दिल्ली | Latest Survey report 2021 : कोरोना के कारण 17 महीने यानी कि 500 दिनों तक स्कूल बंद रहे हैं. अभी भी ज्यादातर राज्यों में छोटे बच्चों के स्कूलों को खोलने पर निर्णय नहीं लिया गया. राजस्थान में भी अभी आठवीं कक्षा के नीचे के विद्यार्थियों को स्कूल नहीं बुलाया जा रहा है.ऐसे में school children online and offline learning survey द्वारा जारी किए गए आंकड़े चौंकाने वाले हैं. सर्वे में साफ हो गया है कि ग्रामीण इलाकों में 37% और शहरी इलाकों में 19% बच्चे बिल्कुल पढ़ाई नहीं कर रहे हैं. सर्वे में यह बात सामने आई है कि देश के सिर्फ 8% बच्चे ही ऑनलाइन शिक्षा प्राप्त कर सक रहे हैं. इस रिपोर्ट में सबसे ज्यादा चौंकाने वाली बात यह है कि देशभर के 48% बच्चे ऐसे हैं जो पढ़ना लिखना जानते थे. लेकिन अब ना तो लिख पा रहे हैं और ना ही ठीक से पढ़ पा रहे हैं. बता दें कि ये सर्वे देश के 15 बड़े राज्यों और केंद्र शासित प्रदेश में करवाया गया था.

Latest Survey report 2021 :

सामूहिक निरक्षरता की ओर देश

Latest Survey report 2021 : इस सर्वे से जुड़े शोधकर्ता विपुल पायकरा ने कहा कि सर्वे के आंकड़े सचमुच चौंकाने वाले हैं. उन्होंने कहा कि ऑनलाइन शिक्षा को लेकर देश में ना तो जागरूकता है और ना ही बच्चों में रुचि. उनका कहना है कि अभिभावक भी ऑनलाइन शिक्षा को ज्यादा सीरियस नहीं लेते.यहीं कारण है कि हालत बेहद गंभीर और निराशाजनक हैं. उन्होंने कहा कि हमें डर है कि देश कहीं सामूहिक निरक्षरता की ओर तो नहीं जा रहा.

इसे भी पढ़ें-Tripura में हिंसक झड़प, पार्टी कार्यालयों में तोड़फोड़ कर लगाई आग, CPM-BJP के कार्यकर्ता घायल, Watch VIDEO

अब स्कूल खुलवाना चाहते हैं अभिभावक

Latest Survey report 2021 : सर्वे में इस बात का भी खुलासा होता है कि ज्यादातर अभिभावक अभी स्कूल खुलवाने के पक्ष में हैं. सर्वे के अनुसार ग्रामीण इलाकों में 97% और शहरी इलाके में 90% अभिभावक ऐसे हैं जो चाहते हैं कि उनके बच्चों के स्कूल खोल दिया जाए. विपुल के अनुसार यदि अभी भी स्कूलों को नहीं खोला गया तो आने वाले समय में बच्चों की शिक्षा में काफी परेशानी आने वाली है. उनका कहना है कि खासकर ग्रामीण इलाकों में जिन बच्चों ने स्कूल छोड़ दिया उनको वापस स्कूल तक लेकर आना अब आसान नहीं होगा.

इसे भी पढ़ें- कोहली की कप्तानी पर BCCI से ले सकता है ‘विराट निर्णय’, मिल गये हैं संकेत…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow