कोरोना काल में 24 घंटे लगातार हुआ मंदिर निर्माण कार्य, अक्टूबर तक नींव भराने का कार्य हो जाएगा पूरा - Naya India
देश | उत्तर प्रदेश | ताजा पोस्ट | लाइफ स्टाइल | धर्म कर्म| नया इंडिया|

कोरोना काल में 24 घंटे लगातार हुआ मंदिर निर्माण कार्य, अक्टूबर तक नींव भराने का कार्य हो जाएगा पूरा

New Delhi: कोरोना काल में भी आयोध्या राम मंदिर का निर्माण कार्य बाधित नहीं हुआ और 24 घंटे का लगातार काम जारी है. उम्मीद जताई जा रही है कि अक्टूबर तक नींव भराई का काम पूरा हो जाएगा. इस संबंध में जानकारी देते हुए श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र न्यास के महासचिव चंपत राय ने कहा कि मंदिर निर्माण का कार्य लगातार 24 घण्टे जारी है. उन्होंने बताया कि कार्य में तेजी लाने के लिए 12–12 घंटे की दो पालियों में कार्य हो रहा है. लगभग 1 लाख 20 हजार घन मीटर मलबा निकाला गया है. एक फुट मोटी लेयर बिछाकर रोलर से काॅम्पैक्ट करने में 4 से 5 दिन लग रहे है. अक्टूबर माह तक काम पूर्ण होने की उम्मीद है.

रामलला की विशेष कृपा से  मजदूर और इंजीनियर कोरोना से बचे रहे

कोरोना के प्रकोप के बाद भी मंदिर निर्माण में लगे सभी मजदूर और इंजीनियर कोरोना से बचे रह गए. इस पर उन्होंने कहा कि रामलला की विशेष कृपा से सभी कारीगर और मजदूर स्वस्थ हैं. परकोटा सीधा करने के लिए जितनी जमीन की आवश्यकता थी, वह काम हो चुका है. पश्चिम के परकोटे का कोना ठीक होना बाकी है. निर्माण कार्य की बारीकियों की चर्चा करते हुए श्री राय ने कहा कि चार लेयर एक के ऊपर एक 400 फुट लम्बाई, 300 फुट चौड़ाई पर डाल दी गई हैं . उन्होंने बताया कि एक लेयर 12 इंच मोटी बिछा कर रोलर से दबाया जाता है, जब 2 इंच दबकर लेयर 10 इंच हो जाती है , तब दूसरी लेयर बिछाते हैं. इस प्रकार की 40-45 लेयर डालनी हैं.

इसे भी पढें – केजरीवाल सरकार अब घर तक पहुंचाएगी शराब, होम डिलिवरी को दी मंजूरी

2023 तक मंदिर निर्माण पूरा करने का है लक्ष्य

चंपत राय ने बताया कि एक घन मीटर क्षेत्र में 2400 किलोग्राम सामग्री भरी जाएगी. इसमें सीमेंट मात्र ढाई प्रतिशत है. इस सामग्री में पत्थर गिट्टी (20 मिलीमीटर) 769 किलोग्राम, पत्थर गिट्टी (10 मिलीमीटर) 512 किलोग्राम, पत्थर पाउडर 854 किलोग्राम, तापीय विद्युत संयंत्र से प्राप्त पत्थर कोयला राख 90 किलोग्राम, सीमेण्ट 60 किलोग्राम और पानी करीब 115 लीटर शामिल है.
श्री राम जन्मभूमि मंदिर का भूमि पूजन पांच अगस्त 2020 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हाथों हुआ था. मंदिर का निर्माण वर्ष 2023 अक्टूबर तक पूरा होने का लक्ष्य है.

इसे भी पढें-  Corona से देश में राहत, गिरावट के साथ 24 घंटें में मिले 1 लाख 27 हजार नए संक्रमित, कई राज्यों में शुरू हुआ Unlock

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *