nayaindia Coal Crisisi PM Modi : अंधेर नगरी का सयाना राजा,जब पिछले साल से ज्यादा...
kishori-yojna
देश | राजरंग| नया इंडिया| Coal Crisisi PM Modi : अंधेर नगरी का सयाना राजा,जब पिछले साल से ज्यादा...

अंधेर नगरी का सयाना राजा : जब पिछले साल से ज्यादा निकला कोयला, तब क्यों हो गया संकट…

Coal Crisisi PM Modi

Nishant Bhuwanika

Coal Crisisi PM Modi  : भारत के मेंस्ट्रीम मीडिया की खासियत है कि असल मुद्दों को छुपाकर ऐसे मुद्दे क्रिएट करती है की जनता को समझ ही नहीं आता कि उनके असली समस्या क्या है. आपको शायद यह पता भी नहीं होगा लेकिन आपके साथ एक बार फिर से ऐसा हो चुका है. अभी क्या हुआ है इस पर हम थोड़ी देर में आते हैं . पहले हम आपको याद करा दें कि किस तरह कोरोना की दूसरी लहर के दौरान मची हाहाकार के बीच सुशांत सिंह राजपूत के आत्महत्या की खबर जोर-शोर से दिखाई गई थी. खैर जो बात बीत गई उस पर क्या चर्चा करना. ताजा मामला यह है कि पूरा देश बिजली संकट से जूझ रहा है. लेकिन क्या सच में पूरे देश में कोयले की कमी हो गई है? क्या सचमुच बारिश और कोरोना के कारण कोयले का खनन नहीं हो पाया है?

Coal Crisisi PM Modi

निकाला गया ज्यादा कोयला

Coal Crisisi PM Modi  : ये बातें बिल्कुल बकवास है कि देश में कोयले की कमी हो गई है. असल बात तो यह है 2019 में अप्रैल और सितंबर के बीच 283 मिलीयन टन कोयला निकाला गया था. अगर 2021 की बात करें तो इस साल 315 मिलियन टन कोयला निकाला गया है. यदि इस बात पर किसी को भी शक है तो इंटरनेट पर कॉल इंडिया लिमिटेड के आंकड़े को चेक किया जा सकता है. आपको वेबसाइट पर जाने पर एक और जानकारी भी मिलेगी की 1.501 एक मिलियन टन कोयला 1 दिन में निकाला गया है. जब इतना कोयला निकाला जा रहा है तो फिर अंधेरा कैसे कायम हो सकता है.

इसे भी पढ़ें- चारा घोटाले का खुलासा करने वाले IAS अधिकारी रहे अमित खरे PM Modi के सलाहकार नियुक्त

बदल दी गई टैरिफ नीति

मोदी सरकार के सत्ता संभालने के तुरंत बाद से अडानी और टाटा कंपनी को फायदे पहुंचाने की बात उठती रही है. यह आपका यह जानना जरूरी है कि ये दोनों ही विदेशी कोयला मंगाते हैं. मौजूदा समय में कोयले का दाम विदेश में $150 प्रति टन है. अब आपके लिए यह जानना भी जरूरी है कि शुक्रवार को केंद्र सरकार ने टैरिफ नीति में जो बदलाव किया है उसके अनुसार टाटा ₹16 प्रति यूनिट की दर से बिजली बनाकर बेच सकेगी. टैरिफ नीति में बदलाव के बाद ही यह सब कुछ संभव हो पाया है.

इसे भी पढ़ें-हजारों साल पहले भी होता था तंबाकू का प्रयोग, पुरातात्विक वैज्ञानिकों को मिले सबूत …

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

one + fifteen =

kishori-yojna
kishori-yojna
ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
केंद्रीय बजट में गरीबों को प्राथमिकता: पीएम मोदी
केंद्रीय बजट में गरीबों को प्राथमिकता: पीएम मोदी