Top 10 instituts In India : IIT मद्रास तीसरी बार बना देश का सर्वेश्रेष्ठ संस्थान...
ताजा पोस्ट | देश| नया इंडिया| Top 10 instituts In India : IIT मद्रास तीसरी बार बना देश का सर्वेश्रेष्ठ संस्थान...

Top 10 instituts In India : IIT मद्रास तीसरी बार बना देश का सर्वेश्रेष्ठ संस्थान, देखें पूरी लिस्ट…

Top 10 instituts In India :

नई दिल्ली |  Top 10 instituts In India : भारत में शीर्ष विश्वविद्यालय और कॉलेजों की सूची जारी कर दी गई है. National institutional ranking framework (NIRF) की रैंकिंग को केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंश प्रधान ने आज दोपहर 12:00 बजे जारी कर दिया. 2021 की NIRF रैंकिंग में टॉप 10 संस्थानों में एक बार फिर से IIT और NIT का दबदबा रहा. इस रैंकिंग में 10 संस्थानों में से 8 IIT के और दो NIT के संस्थान हैं. देशभर में ओवर ऑल प्रदर्शन के आधार पर एक बार फिर से IIT मद्रास को सर्वश्रेष्ठ इंस्टीट्यूशनल संस्थान माना गया है. इसके बाद आईआईटी बेंगलुरु को स्थान मिला है. बता दें कि ये तीसरा मौका है जब IIT मद्रास तीसरी बार देश का सर्वेश्रेष्ठ संस्थान बना है.

जानें कौन कहां

Top 10 instituts In India : NIRF की रैंकिंग में आईआईटी मद्रास, आईआईटी बेंगलुरु, आईआईटी दिल्ली, आईआईटी कानपुर, आईआईटी खड़गपुर, आईआईटी रुड़की, आईआईटी गुवाहाटी है. शीर्ष 8 संस्थानों में आईआईटी के ही संस्थान हैं इसके बाद 9वें नंबर पर JNU और 10वें नंबर पर BHU है. विश्वविद्यालय श्रेणी की बात की जाए तो पहले नंबर पर भारतीय विज्ञान संस्थान है. दूसरे नंबर पर जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी, तीसरे नंबर पर बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी और चौथे नंबर पर कोलकाता विश्वविद्यालय है.

इसे भी पढ़ें – तालिबान से पत्रकारों की पिटाई वाली तस्वीरें वायरल, निशान देखकर कांप जाएंगी रूह…

लगातार बढ़ रही हैं श्रेणियां

Top 10 instituts In India : बता दें की NIRF की रैंकिंग को लेकर प्रत्येक साल बदलाव किया जा रहे हैं. इसके पीछे का कारण है देश में लगातार विश्वविद्यालयों की संख्या बढ़ना. 2016 में संस्थानों को केवल 4 श्रेणियों में स्थान दिया गया था लेकिन 2019 में यह संख्या बढ़कर नौ हो गए. इस साल यह बढ़कर 10 हो गए. रैंकिंग जारी करने के बाद शिक्षा मंत्री ने कहा कि इसका सिर्फ एक ही उद्देश्य है कि अन्य यूनिवर्सिटी भी टॉप पर आने का प्रयास करे.

इसे भी पढ़ें- उम्मीद है कि एमएस धोनी के आने से कोच रवि शास्त्री के साथ टकराव नहीं होगा, अश्विन को शामिल करना इंग्लैंड की निराशा के बाद एक सांत्वना

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
यूपी में फिर वही कहानी
यूपी में फिर वही कहानी