चीन की अध्यक्षता वाली संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की बैठक का विदेश मंत्री डॉ. जयशंकर ने किया बहिष्कार

Must Read

New Delhi: संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की उस बैठक के भारतीय विदेश मंत्री एस जयंशंकर ने बहिष्कार कर दिया जिसकी अध्यक्षता चीन कर रहा था. अपनी जगह उन्होंने भारतीय विदेश सचिव हर्ष श्रृंगला को भेज दिया. जबकि सभी देशों के विदेश सचिव इसमें शामिल हुए. इस बैठक की अध्यक्षता चीन के विदेश मंत्री वांग यी कर रहे थे. इस बैठख में बहुपक्षीयता पर मंत्री स्तर की चर्चा होनी थी. इसे भारत की ओर से चीन को कड़ा संदेश माना जा रहा है. पिछले साल पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा के पास भारतीय सेना पर हुए हिंसक हमले के बाद चीन को कड़ा संदेश दिया गया है.
वैश्विक कमजोरियां जाहिर हुईं.

महामारी के बीच वैश्विक कमजोरियां और गलतियां जाहिर

बैठक में विदेश सचिव हर्ष श्रृंगला ने अपने भाषण में कहा कि कोरोना वायरस की महामारी के बीच वैश्विक कमजोरियां और गलतियां जाहिर हो गयी हैं. उन्होंने कहा कि संयोजित वैश्विक प्रतिक्रिया में देरी से बहुपक्षीय व्यवस्था की कमजोरियां जाहिर हो गयी हैं, जो आज दिख रही हैं. इससे विस्तृत बदलाव की जरूरत साफ हुई है उन्होंने कहा कि महामारी ने वैश्विक आपूर्ति श्रृंखला से लेकर असमान वैक्सीन वितरण तक की गलतियां जाहिर कर दीं और वैश्विक सहयोग और मजबूत बहुपक्षीयता की जरूरत समझायी है.

इसे भी पढें- India Fights against Corona:  बुजुर्ग कोरोना संक्रमित महिला का बेटा भी था Positive, डॉक्टरों ने अंतिम संस्कार कर पेश की मिसाल

अब तक शामिल रहे जयशंकर

भारत जनवरी में संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में अस्थाई सदस्य के तौर पर शामिल हुआ था और उसके बाद से जयशंकर ने मंत्री स्तर की बैठकों में हिस्सा लिया है जब जनवरी में ट्यूनीशिया, फरवरी में ब्रिटेन और अप्रैल में वियतनाम ने अध्यक्षता की थी. चीन अभी दो और बैठकें करेगा. एक अफ्रीका और कोविड-19 रिकवरी पर और एक शांतिदूतों की सुरक्षा बेहतर करने पर. परिषद की कई बैठकें कोविड-19 की महामारी के चलते वर्चुअली हुई हैं.

इसे भी पढें- Corona Crisis: शोध में हुआ खुलासा, बच्चों में फैला संक्रमण तो मच जाएगा हाहाकर …

- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

साभार - ऐसे भी जानें सत्य

Latest News

कैसा होगा ‘मोदी मंत्रिमंडल’ का फेरबदल?

बीजेपी हर हालत में उत्तर प्रदेश का चुनाव दोबारा जीतना चाहेगी। लिहाज़ा उत्तर प्रदेश से कुछ चेहरों को ख़ास...

More Articles Like This