• डाउनलोड ऐप
Wednesday, May 12, 2021
No menu items!
spot_img

Corona Relief: भारत को किया जा रहे मदद के लिए अमेरिकी सांसदों ने की बाइडन प्रशासन की प्रशंसा

Must Read

New Delhi: भारत में कोरोना के बढ़ते मामले परेशानी की सबब बना हुए हैं. देश में आई इस आपदा से निपटने के लिए कई देश भारत के साथ खड़े दिखाई दिये हैं. भारत की मदद के लिए आगे आए देशों में अमेरिका भी शामिल है. भारत में बढ़ते कोरोना के संक्रमण को देखते हुए अमेरिका ने हर संभव मदद की भरोसा दिया है. अमेरिका से आने वाली मदद की पहली खेप कल भारत पहुंच भी गई. बता दें कि इस ममद के लिए अमेरिका की हर तरफ प्रसंसा हो रही है. अमेरिकी सांसदों ने भी भारत को 10 करोड़ डॉलर की मदद देने के लिए बाइडन प्रशासन की प्रशंसा की है.  सीनेट के सदस्य कोरी बूकर ने ट्वीट किया, “हम यह नहीं भूल सकते कि यह एक वैश्विक महामारी है.  हमें दूसरे देशों की कोविड-19 से लड़ने के लिए जरूरी टीके एवं आपूर्ति प्राप्त करने में मदद करनी होगी. यह राष्ट्रपति बाइडन का सही कदम है क्योंकि भारत (वायरस के) अनियंत्रित प्रसार और निराश करने वाली कमियों से जूझ रहा है.

भारतीय मूल की अमेरिकी सांसद प्रमिला जयपाल ने कही ये बात

भारतीय मूल की अमेरिकी सांसद प्रमिला जयपाल ने कहा कि यह वैश्विक महामारी है और जब तक इस वायरस को हर जगह से खत्म नहीं कर दिया जाता, कोई भी इससे उबर नहीं सकता है.जयपाल ने कहा कि भारत को हमारी मदद की जरूरत है और यह हमारी नैतिक जिम्मेदारी है कि हम इस कठिन स्थिति से उबरने में सफल हों. उन्होंने  कहा कि भारत ने भी कोरोना के प्रारंभिक काल में दुनिया की काफी मदद की थी. ऐसे में भारत की ममद के लिए दुनिया के सभी देशों को आगे आना चाहिए. उन्होंने कहा कि इन परिस्थितियों में हमें ये सोचना होगा कि आने वाले समय में हमें कैसे एक साथ खड़ा होना है. उन्होंने कहा कि चीजें एक बार फिर से सामान्य हो जाएंगीू. लेकिन दुनिया के सभी देशों कोे ये सोचना है कि क्या हम मिलकर इस परेशानी का सामना करते हैं या फिर अलग-अलग संघर्ष.

अमेरिकी उपराष्ट्रपति कमल हैरिस ने  स्थिति को कहा त्रासदी

अमेरिकी उपराष्ट्रपति कमला हैरिस ने भारत में कोरोना वायरस संक्रमण की स्थिति को “त्रासदी” करार दिया और कहा कि उन्होंने इस चुनौती से लड़ने के लिए देश को मदद देने की प्रतिबद्धता जताई है. हैरिस ने शुक्रवार को ओहियो के सिनसिनाती में संवाददाताओं से कहा, “इसमें कोई शक नहीं है कि यह मृतकों के लिहाज से बड़ी त्रासदी है और जैसा कि मैंने पहले भी कहा है और फिर कहूंगी कि एक राष्ट्र के तौर पर हमने भारत के लोगों की मदद के लिए प्रतिबद्धता जताई है.

इसे भी पढें- ऑस्ट्रेलियाई सरकार ने भारत से आने वाले अपने ही नागरिकों पर लगाया प्रतिबंध, उल्लंघन पर हो सकती है जेल

कल पहुंची थी मेडिकल सप्लाई की पहली खेप

अमेरिका से आने वाली मेडिकल सप्लाई की पहली खेप कल भारत पहुंचीथी. . जानकारी के अनुसार अमेरिका से 280 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर के साथ मेडिकल सामान भारत पहुंचे. अमेरिका से आई राहत सामग्री के पहले खेप में 280 ऑक्सीजन कंस्ट्रक्टर के साथ अन्य मेडिकल उपकरण भी भारत पहुंचे हैं जानकारी के अनुसार लगभग 1 मिलियन रिपीट कोरोनावायरस टेस्ट किट भी अमेरिका के सैन्य विमान से आज सुबह दिल्ली अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर पहुंचाया गया है. अमेरिका की इस पहल दुनिया भर में सराहना की जा रही है.

इसे भी पढें- PM मोदी पहुंचे शीशगंज गुरुद्वारा, गुरु तेग बहादुर के 400वें प्रकाश पर्व पर माथा टेका मांगा आशीष

- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Latest News

कांग्रेस के प्रति शिव सेना का सद्भाव

भारत की राजनीति में अक्सर दिलचस्प चीजें देखने को मिलती रहती हैं। महाराष्ट्र की महा विकास अघाड़ी सरकार में...

More Articles Like This