Death trying to become Bhagat Singh : स्वतंत्रता दिवस पर भगत सिंह बनने ....
देश | उत्तर प्रदेश | ताजा पोस्ट| नया इंडिया| Death trying to become Bhagat Singh : स्वतंत्रता दिवस पर भगत सिंह बनने ....

दर्दनाक : स्वतंत्रता दिवस पर भगत सिंह बनने वाले था 9 साल का मासूम, रिहसर्ल के दौरान झूल गया फंदे पर

Death trying to become Bhagat Singh

बदायूं । Death trying to become Bhagat Singh : स्वतंत्रता दिवस आने में ज्यादा समय नहीं है. देश में हर कहीं इस मौके पर अलग अलग कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है. लेकिन इस स्वतंत्रता दिवस के पहले ही एक दर्दनाक मामला सामने आया है. जानकारी के अनुसार अगले महीने होने वाले स्वतंत्रता दिवस के मौके पर भगत सिंह वाले बनने वाले एक 9 साल के बच्चे की दर्दनाक मौत हो गई है. बताया जा रहा है कि इस बच्चे की मौत रिहसर्ल के दौरान हुई है जब वह गले में रस्सी का फंदा बनाकर फांसी पर लटकने की प्रैक्टिस कर रहा था. मृतक युवक शिवम की मौत की जानकारी मिलने के बाद प्रैक्टिस करने वाले सभी बच्चों के माता-पिता भी पहुंच गए.

Death trying to become Bhagat Singh

मासूम ऐसे झूल गया फंदे पर

Death trying to become Bhagat Singh : यह पूरा मामला उत्तर प्रदेश के बदायूं जिले का बताया जा रहा है. मासूम के माता पिता ने बताया कि भगत सिंह का कैरेक्टर करने को लेकर शिवम काफी उत्साहित था. मां बाप का कहना है कि वह घर पर भी भगत सिंह की फिल्में देख रहा था और उन्हें कॉपी करने की कोशिश कर रहा था. प्रैक्टिस के दौरान वह स्टूल पर खड़ा था. वह फांसी के फंदे पर चढ गया इसी दौरान स्कूल खिसक गई और फैसला गले में फंस गया. क्योंकि बच्चों के लिए अवसर के दौरान वहां कोई बड़ा मौजूद नहीं था इसीलिए बच्चे उसकी मदद भी नहीं कर सके और मैं नहा भगत सिंह फंदे में झूल गया.

इसे भी पढ़ें – चीन में बीजिंग सहित 15 शहर कोरोना के ‘Delta Variant’ की चपेट में, हवाई सेवाएं रद्द, सरकार की बढ़ी चिंता

Death trying to become Bhagat Singh

पुलिस को नहीं मिली जानकारी

Death trying to become Bhagat Singh : इस घटना में भगत सिंह बने शिवम की मृत्यु होने के बाद जब पुलिस से बात की गई तो उन्होंने बताया कि हमें इस बात की कोई सूचना नहीं मिली है. हालांकि बाद में मीडिया में खबर चलने के बाद पुलिस माता-पिता के पास पहुंची और पूरी घटना का विवरण लिया. इस संबंध में बदायूं के सीओ सिटी चंद्रपाल सिंह ने बताया कि हमने मां-बाप को फटकार लगाई है कि उन्हें पुलिस को जानकारी दिए बिना अंतिम संस्कार नहीं कराना चाहिए था. हालांकि पुलिस ने अपने स्तर पर जांच करने के बाद यह पाया है कि यह दुर्घटना वश हुई एक मौत थी.

इसे भी पढ़ें- मेडिकल में पिछड़ों को आरक्षण

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow