Corona Firght: जब नहीं पहुंचे रिश्तेदार तो मुस्लिम पड़ोसियों ने ना सिर्फ कंधा दिया, बल्कि राम नाम सत्य है भी कहा ... - Naya India
देश | उत्तर प्रदेश| नया इंडिया|

Corona Firght: जब नहीं पहुंचे रिश्तेदार तो मुस्लिम पड़ोसियों ने ना सिर्फ कंधा दिया, बल्कि राम नाम सत्य है भी कहा …

Meerut: देश में कोरोना की दूसरी लहर कहर बरसा रही है. ऐसे में  मानवता को शर्मसार करने वाली खबर भी सामने आ रही है. लेकिन कई जगह ऐसी सूचना भी मिल रही है जिससे लोग एकजुटता का संदेश दे रहे हैं. उत्तर प्रदेश के मेरठ से भी ऐसी ही एक खबर आई है. एक महिला के निधन के बाद जब उसके अपने कंधा तक देने नहीं पहुंचे तो मुस्लिम भाईयों ने अर्थी को कंधा देकर मिसाल पेश की. मुस्लिम भाईयों ने इस महिला की अर्थी को कंधा देकर सूरजकुंड श्मशान घाट तक पहुंचाया. जहां उसका अंतिम संस्कार किया गया. ये वीडियो अब सोशल मीडिया पर ख़ूब वायरल हो रहा है. वीडियो में मुस्लिम भाई अर्थी को कांधा देते हुए नज़र आ रहे हैं. इस दौरान राम नाम सत्य है, का उदघोष भी सुनाई दे रहा है.

घंटों परिवार के लोगों ने किया इंजतार

मेरठ में महिला की मौत के बाद उसके पति ने कई घंटों तक परिवार के लोगों का इंतजार किया. शायद कोई आए और उसकी पत्नी की अर्थी को कंधा दे. लेकिन कोई नहीं आया. जब उनकी उम्मीद टूटने लगी तो कुछ मुस्लिम युवकों ने महिला के शव को कंधा दिया और हिंदू रिवाज से अंतिम संस्कार भी कराया. कोरोना ने लोगों के मन में ऐसा खौफ बैठा दिया है कि परिवार का कोई सदस्य इस महिला की अंतिम यात्रा में शामिल नहीं हुआ. ऐसे कठिन समय में मुस्लिम युवकों इस परिवार के साथ फौलाद बनकर खड़े नज़र आए.

इसे भी पढें- कोरोना का कहर : चारधाम यात्रा स्थगित, केवल तीर्थ पुरोहित ही करेंगे नियमित पूजा पाठ

पूरे देश से मानवता की ऐसी तस्वीरें हैं आम

हापुड़ स्टैंड के समीप रहने वाली सुषमा अग्रवाल नाम की महिला की कुछ दिनों से तबीयत ठीक नहीं थी और एक दिन उनकी तबीयत काफी बिगड़ गई जिसके बाद उनकी मौत हो गई. पत्नी की मौत की खबर सुनकर पति वाराणसी से मेरठ पहुंच गए. उन्होंने बाकी रिश्तेदारों की राह देखी लेकिन कोई नहीं आया.  तब तहसीन अंसारी अपने कुछ साथियों के साथ वहां पहुंचे. अर्थी को कंधा देकर पैदल सूरजकुंड श्मशान घाट तक ले गए. उन्होनें हिंदू रिवाज से ही शवयात्रा निकाली. पूरे देश से कई ऐसे मामले सामने आ रहे हैं. जब इंसान हर धर्म और जाति को देखे बिना मदद के लिए आगे आ रहे हैं.

इसे भी पढें- Lalu Yadav : आज शाम तक जेल से बाहर आ जाएंगे लालू, समर्थकों में उत्साह

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *