लखनऊ में जाली नोट छापने वाले गिरोह के दो सदस्य गिरफ्तार - Naya India
देश | उत्तर प्रदेश| नया इंडिया|

लखनऊ में जाली नोट छापने वाले गिरोह के दो सदस्य गिरफ्तार

लखनऊ। उत्तर प्रदेश पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) ने लखनऊ के विभूतिखण्ड क्षेत्र से जाली नोटों का धंधा करने वाले गिरोह के दो सदस्यों को गिरफ्तार कर उनके पास से 1,23,500 जाली नोट और उनके छापने के उपकरण आदि बरामद किए गये। एसटीएफ के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक राजीव नारायण मिश्र ने गुरुवार को यहां यह जानकारी दी।

उन्होंने बताया कि सूचना मिलने पर एसटीएफ ने लखनऊ के विभूतिखण्ड क्षेत्र से जाली नोट तैयार कर आपूर्ति करने वाले गिरोह के दो सदस्यों लखनऊ निवासी राघवेन्द्र सिंह उर्फ राजू और देवरिया निवासी रमापति यादव को गिरफ्तार किया। उनके कब्जे से 100 और 50 रुपये के एक लाख 23 हजार 500 के जाली नोट के अलावा अर्धछपे नोट और उनके तैयार करने के उपकरण और अन्य सामान बरामद किया।

इस सूचना पर एसटीएफ की टीम बताये गये स्थान पर पहुंचकर दोनों लोगों को पकड़ लिया, जिनके कबजे से जाली नोट बरामद किए गये। श्री मिश्र ने बताया कि इन लोगों ने वास्तुखण्ड, गोमतीनगर में मकान किराये का मकान ले रखा है।

वहां इनके साथी रामकृपाल, अनुराग सिंह चौहान, वैभव सिंह सेगर उर्फ गोलू भी रहते है, ये वहां मिलकर प्रिन्टर से फोटो व ‘स्कैन’ करके कूटरचित भारतीय मुद्रा छापते है और उसे 20 प्रतिशत के कीमत पर दूसरों को सप्लाई कर देता है। दो नवम्बर को इनके साथी रामकृपाल और अनुराग सिंह चौहान रायबरेली के महराजगंज थाने में कूटरचित भारतीय मुद्रा के साथ गिरफ्तार कर लिए गये थे, जो इस समय जेल में है।

साथ ही राघवेन्द्र ने बताया कि वह और उसका साथी वैभव सिंह सेंगर उर्फ गोलू जाली मुद्रा तैयार कर सप्लाई करने का काम करता है। मौके पर वह बरामद मुद्रा रमापति यादव को देने आया था। उन्होंने बताया कि आरोपियों को अदालत में पेश करने के बाद जेल भेज दिया गया है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *