बलिया ज़िला प्रशासन द्वारा युवा चेतना को नोटिस - Naya India
देश | उत्तर प्रदेश| नया इंडिया|

बलिया ज़िला प्रशासन द्वारा युवा चेतना को नोटिस

बलिया। बलिया ज़िला प्रशासन द्वारा युवा चेतना के राष्ट्रीय संयोजक रोहित कुमार सिंह को लाकडाउन ब्रेक और सोसल डिसटेंसिंग में बाधा बनने के नाम पर चेतावनी नोटिस दिया गया है। चेतावनी नोटिस के माध्यम से रोहित सिंह से प्रशासन ने पूछा है की क्यों ना आपदा अधिनियम,एपिडेमिक डिजिज एक्ट,1897 और उत्तर प्रदेश महामारी कोविड- 19 विनियमावली,2020 के अंतर्गत आपके ऊपर कारवाई की जाए।

युवा चेतना के राष्ट्रीय संयोजक रोहित कुमार सिंह ने प्रेस को बयान जारी कर कहा की देश में पहली बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कुछ घंटों के लिए लाकडाउन 22 मार्च को किया था और 25 मार्च को 21 दिनों के लिए मोदी जी ने लाकडाउन देश में लागू किया। श्री सिंह ने बताया की युवा चेतना 20 मार्च से ही बलिया के सुदूर देहात में मास्क,साबुन,सैनीटाइजर,साड़ी,कपड़ा और भोजन का वितरण कर रही है।

इसे भी पढ़ें :- शूटर वर्तिका ने तबलीगी प्रमुख की गिरफ्तारी पर इनाम घोषित किया

श्री सिंह ने कहा की देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रोज लोगों से जरुरतमंदों की मदद की अपील कर रहे हैं और युवा चेतना उस समय से मदद कर रही है जब देश में कोरोना के नाम पर कोई चर्चा नहीं था।श्री सिंह ने कहा की 25 मार्च को लाकडाउन की घोषणा होने के बाद मालदेपुर मोड़ स्थित अपने निवास से जिला के किसी भी इलाक़े में मैं नहीं गया।

देश के विभिन्न प्रदेशों से पैदल बलिया और अगल-बगल के प्रदेशों में जा रहे जरुरतमंद लोगों की मदद घर के नीचे उतरकर भोजन और पैसे से की है।श्री सिंह ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से पूछा की क्या मानव सेवा संविधान प्रदत्त अधिकारों में रहते हुए गलत है।श्री सिंह ने कहा की घर के पास ख़ाली ज़मीन में जरूरतमंद लोगों को भोजन कराके हमने कौन सा पाप कर दिया है।

श्री सिंह ने कहा की 20 दिन से हम बोल रहे थे की डीएम,एसपी,पुलिसकर्मी,स्वास्थकर्मी,प्रेसकर्मी जनता की सेवा कोरोना के बीच में कर सकते हैं तो जनप्रतिनिधि क्यों ग़ायब हैं इन्हीं बातों से घबराकर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी के निर्देश पर कारवाई की गई है।श्री सिंह ने कहा की बलिया की जनता को मालूम है की निस्वार्थ भाव से हम सेवा कर रहे हैं और घर में बैठे नेताओं को हमारे सेवा से परेशानी हो रही है।श्री सिंह ने कहा की मुझे आज 9.29 मिनट सुबह में ज़िला प्रशासन के कर्मचारी से चेतावनी नोटिस की प्राप्ति हुई है अपने वकील के माध्यम से हम अपना जवाब प्रशासन को आवंटित समय अवधि में करा देंगे।
सिंह ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से आग्रह किया है की अगर जनता की सेवा के पुरस्कार में जेल है तो कृपया अविलंब मुझ पर एफ़॰आई॰आर॰ दर्ज करा कर मुझे जेल भेजा जाए।श्री सिंह ने कहा की अगर मेरा खून भी बलिया,पूर्वांचल और हिंदुस्तान के ग़रीबों के सुख के लिए आवश्यक है तो मैं देने को तैयार हूँ।श्री सिंह ने पूछा की 25 मार्च को देशव्यापी लाकडाउन की घोषणा के बाद जब लाखों की संख्या में यूपी,बिहार और झारखंड जाने के लिए लोगों ने आनंद विहार में जमघट लगाया तो लाकडाउन की धज्जियाँ नहीं उड़ी और हमने ग़रीबों के पेट को आराम देने का अभियान चलाया तो हम मुजरिम हो गए।श्री सिंह ने कहा की जनता के हितों की रक्षा हेतु कोई भी जुल्म सहने को तैयार हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
चुनाव से पहले पंजाब में कांग्रेस के पूर्व मंत्री ने तोड़ा 50 साल पुराना नाता, अब ‘आप’ में हो सकते हैं शामिल
चुनाव से पहले पंजाब में कांग्रेस के पूर्व मंत्री ने तोड़ा 50 साल पुराना नाता, अब ‘आप’ में हो सकते हैं शामिल