यूपी नहीं रहा बीमारू प्रदेश: योगी
देश | उत्तर प्रदेश| नया इंडिया| यूपी नहीं रहा बीमारू प्रदेश: योगी

यूपी नहीं रहा बीमारू प्रदेश: योगी

लखनऊ। उत्तर प्रदेश देश में 44 योजनाओं में पहले स्थान पर है और ‘इज ऑफ डूइंग बिज़नेस’ में देश में दूसरे स्थान पर है। इसका दावा करते हुए मुख्यमंत्री ने 38 मिनट के अपने भाषण में तमाम उपलब्धियां गिनाईं और अपने चिरपरिचित अंदाज में विपक्ष, खासकर सपा प्रमुख पर जमकर प्रहार किया। उन्होने कहा कभी बीमारू राज्य माने जाने वाले यूपी में यह सब उनके सुशासन और काम करने वाले भ्रष्टाचारमुक्त प्रशासन की वजह से हुआ। CM yogi uttar pradesh

सीएम योगी आत्मविश्वास से लबरेज नजर आये। मौका भी था और दस्तूर भी। उत्तर प्रदेश सरकार के लिए रविवार का दिन कुछ ऐसा ही रहा। साढ़े चार साल पूरे रुतबे के साथ सत्ता का संचालन करने वाले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का इस मौके पर बम-बम होना स्वाभाविक ही था। उन्होंने सूबे की सत्ता पर लंबे समय तक काबिज रहीं सरकारों की सोच में कमी को यूपी के पिछड़ा राज्य होने की वजह बताया। उन्होंने कहा कि बीते साढ़े चार सालों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मार्गदर्शन में अब सुशासन और विकास उत्तर प्रदेश की नई पहचान है। इस दौरान मंच पर उनके साथ उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य, डॉ दिनेश शर्मा, प्रदेश बीजेपी प्रभारी राधामोहन सिंह, प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष स्वतंत्र देवव सिंह मौजूद थे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार के साढ़े चार वर्षों में साढ़े चार लाख युवाओं को नौकरी मिली है। प्रदेश की बेरोजगारी दर 17.5 से घटकर मार्च 2021 में 4.1 प्रतिशत रह गई, वहीं यूपी इंवेस्टर समिट में प्राप्त 4.68 लाख करोड़ रुपए के निवेश प्रस्तावों में से तीन लाख करोड़ रुपए के निवेश प्रस्तावों को मूर्तरुप दिया गया है। विदेशी कंपनियां चीन के बजाए यूपी में अपना उद्योग लगा रही हैं।

ration and aadhar card

CM yogi uttar pradesh

Read also राशन व आधार कार्ड लिंक करने में यूपी नंबर एक

लोकभवन के भव्य सभागार की प्रेस कांफ्रेंस में मुख्यमंत्री ने लंबा भाषण किया। उपलब्धियों के लेखे-जोखे  की पुस्तिका का विमोचन भी किया। इस पुस्तिका में सूबे की अर्थ व्यवस्था में हुए सुधार को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की टिप्पणी भी है। जिसमें प्रधानमंत्री ने कहा है, “आज उत्तर प्रदेश पूरे देश का नेतृत्व कर रहा है। इसके पीछे साढ़े चार वर्षों के दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का वह परिश्रम है, जिसमें  उन्होंने  उत्तर प्रदेश को बीमारू राज्य से बाहर लाने के लिए दिन रात मेहनत की और वह रिफार्म के जरिए परफार्म करते हुए उत्तर प्रदेश को ट्रांसफ़ार्म करने के अपने मिशन में सफल रहे।” कुछ ऐसी ही बात मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विगत 19 मार्च को प्रदेश सरकार के चार वर्ष पूरा होने पर भी कही थी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि साढ़े चार वर्षों में राज्य की अर्थव्यवस्था देश की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन गई है। वर्ष 2015-16 में प्रदेश की अर्थव्यवस्था देश में 6ठें स्थान पर थी। विगत साढ़े चार वर्ष में प्रतिव्यक्ति में दोगुने से अधिक की वृद्धि हुई है। प्रदेश में प्रति व्यक्ति आय दुगनी हुई है। सरकार की उपलब्धियों से संबंधित जिस पुस्तिका का मुख्यमंत्री ने विमोचन किया है, उसमें लिखा गया है, प्रदेश सरकार ने दूरदर्शी योजनाएं तैयार कर उन्हें धरातल पर उतारा। फलस्वरूप बीते 54 माह में राज्य के माथे से बीमारू राज्य का धब्बा हट गया और समृद्धिशीलता अक टीका लग गया है।

मुख्यमंत्री के मुताबिक उत्तर प्रदेश केंद्र सरकार की 44 जनकल्याणकारी योजनाओं में पहले स्थान पर है। डीबीटी के माध्यम से पांच लाख करोड़ रुपए सीधे लाभार्थियों के खाते में भेजे गए। जिस यूपी में पिछली सरकारें चीनी मिलों को औने-पौने दाम पर बेच रहीं थीं आज वहां नई चीनी मिलें भी खुल रही हैं। गन्ना किसानों का बकाया अब उत्तर प्रदेश में नहीं रहता। गन्ना किसानों को अब तक 1.43 लाख करोड़ का भुगतान किया जा चुका है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
देश में 15 हजार से कम केस
देश में 15 हजार से कम केस