Girl beaten cab driver : कैब ड्राइवर को मारने वाली लड़की का बड़ा बयान....
देश | उत्तर प्रदेश| नया इंडिया| Girl beaten cab driver : कैब ड्राइवर को मारने वाली लड़की का बड़ा बयान....

कैब ड्राइवर को मारने वाली लड़की का बड़ा बयान- 100 लोगों ने मुझे 300 मीटर तक घसीट कर मारा

Girl beaten cab driver :

Girl beaten cab driver : लखनऊ में कैब ड्राइवर को पीटने वाला मामला बहुत गरमाया हुआ है। पीटने वाली लड़की लड़की का नाम प्रियदर्शनी नारायण था। अब उन्होंने इस विवाद पर बड़ा दिया है। प्रियदर्शनी ने कहा कैब ड्राइवर के साथ 100 लोगों थे जिन्होंने मुझे 300 मीटर तक घसीट कर मारा। इतना ही नहीं, उन लोगों ने मेरी हड्डी भी तोड़ दी थी। प्रियदर्शनी ने कहा कि इस दौरान पुलिस ने कोई एक्शन नहीं लिया और चुप-चुप सब देखती रही।

Girl beaten cab driver :

Girl beaten cab driver : प्रियदर्शनी ने कहा कि 30 जुलाई की रात भी वो वॉक पर निकली थी। घर लौटते समय अवध चौराहे पर वह रोड क्रॉस कर रही थी, तभी एक कैब ने सिग्नल तोड़कर गाड़ी आगे बढ़ा दी, जो मेरे पैर से छू गई और पास खड़े पुलिस वालों ने भी उसे नहीं रोका। उसने कहा कि कैब ड्राइवर मोबाइल चलाते हुए ड्राइव कर रहा था। लूट पाट की धारा पर सवाल पूछने पर प्रियदर्शनी ने कहा कि पुलिस ने जो मेरे खिलाफ जो धारा दर्ज की है वो है लूट पाट की है। मैनें लूट पाट कहा की है पुलिस मुझे वीडियो दिखाए। लड़की ने कहा कि कैब ड्राइवर झूठ बोल है कि उसका 60 हजार का नुकसान हुआ है।

Girl beaten cab driver :

मानसिक बीमारी के परेशान प्रियदर्शनी

Girl beaten cab driver : प्रियदर्शनी नारायण ने बताया कि उसका मानसिक बीमारी का इलाज चल रहा है और उसे हर रोज वॉक करनी पड़ती है। 30 जुलाई की रात भी वो वॉक पर निकली थी और चौराहे पर कैब ड्राइवर ने सिग्नल तोड़कर गाड़ी आगे बढ़ा दी, जो मेरे पैर से छू गई। प्रियदर्शनी ने आरोप लगाया कि कैब ड्राइवर मोबाइल चलाते हुए ड्राइव कर रहा था, वहीं, पास खड़े पुलिस वालों ने भी उसे नहीं रोका। लड़की ने कहा कि उस समय मेरा दिल दहल गया था और लगा कि कार ऊपर चढ़ जाएगी।

इसे भी पढ़े-  एलएलपी संशोधन विधेयक को राज्यसभा में मंजूरी, अब उद्योग जगत में हो जाएगा यह बड़ा बदलाव

प्रियदर्शिनी सोशल मीडिया पर दी सफाई

प्रियदर्शिनी ने इंस्टाग्राम पर भी सफाई देते हुए कहा कि सब मुझे ब्लेम कर रहे हैं कि मैंने उसे क्यों मारा, लेकिन कोई भी मेरी स्टोरी नहीं जानना चाहता है। जब सिग्नल रेड था मैं रोड को लगभग क्रॉस कर चुकी थी। तभी गंजेड़ी ड्राइवर ने मुझे अपनी टक्कर मार दी. भगवान की कृपा से मैं बच गई। वह अपनी गलती नहीं मान रहा था और बहस कर रहा था, इसलिए मैंने उसे थप्पड़ मारा। अगर किसी को लगता है कि मैंने कानून को अपने हाथ में लिया तो इसके लिए मैं माफी मांगती हूं, लेकिन चुप रहने की बजाय मैं इन एंटी सोशल एलिमेंट्स को जवाब देना ज्यादा बेहतर मानती हूं। संघी और भक्त मुझे फेक फेमनिस्ट बता रहे हैं। यह कम से कम मरने और कैंडल मार्च निकलवाने से तो बढ़िया ही है।

इसे भी पढ़े-  Tokyo कुश्ती फाइनल में सोना जीतने के लिए रूस के यूगुईव ज़ावुरी से भिड़ेंगे भारत के रवि कुमार दहिया, दीपक पूनिया सेमीफाइनल हारे

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow