कृषि कानून राक्षसी-प्रियंका - Naya India
देश | उत्तर प्रदेश | समाचार मुख्य| नया इंडिया|

कृषि कानून राक्षसी-प्रियंका

नई दिल्ली। कांग्रेस पार्टी की महासचिव और उत्तर प्रदेश की प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा ने उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में बुधवार को एक बड़ी रैली की। इस रैली में उन्होंने केंद्र सरकार के बनाए कृषि कानूनों पर जम कर हमला किया। प्रियंका ने केंद्रीय कृषि कानूनों को राक्षस की तरह बताया और कहा कि ये कानून पूंजीपतियों के लिए बनाए गए हैं। उन्होंने कहा कि ये कानून बड़े बड़े खरबपतियों को लाभ पहुंचाएंगे।

प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा कि इन कानूनों के आने से पूंजीपति अपनी मर्जी से फसलों के दाम तय करेगा और इससे जमाखोरी बढ़ेगी। कांग्रेस महासचिव ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि उनके 56 इंच के सीने में दिल पूंजीपतियों के लिए धड़कता है उनका दिल किसानों के लिए नहीं धड़कता है। प्रियंका ने सहारनपुर में किसान महापंचायत को संबोधित किया, जिसमें बड़ी संख्या में लोग जुटे थे। उससे पहले उन्होंने एक मंदिर में जाकर शाकंबरी देवी की पूजा की थी और सभा में भगवा गमछा कंधे पर रख कर पहुंची थीं।

प्रियंका ने कहा- मैं माता शाकंबरी देवी जी का आशीर्वाद लेकर आई हूं। एक बार भीषण अकाल पड़ा, तब सौ आंखों से शाकंबरी देवी ने आंसू बहाए तब जाकर नदियों में पानी आया और किसान संकट से निकले। उन्‍होंने कहा- ये कृषि कानून राक्षस की तरह हैं। ये कानून पूंजीपतियों के लिए बनाए गए हैं और बड़े बड़े खरबपतियों को लाभ पहुंचाएंगे। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा- प्रधानमंत्री रोज किसानों का अपमान कर रहे हैं। वे रोज कहते हैं कि ये आतंकवादी हैं। प्रधानमंत्री ने किसानों को आंदोलनजीवी कहा। उन्‍होंने किसानों का मजाक उड़ाया है। वो देशभक्त नहीं हो सकता है जो किसान को नहीं समझता।

प्रियंका ने कहा- एक कानून से मंडियां खत्म हो जाएंगी और इस कानून से आपको उपज का सही दाम नहीं मिल पाएगा। इसकी वजह से पूंजीपति अपनी मर्जी से दाम तय करेंगे और इससे पूरी तरह से जमाखोरी होगी। उन्होंने कहा- इस सबका परिणाम यह होगा कि किसानों की आवाज दबेगी और पूंजीपतियों की आवाज बुलंद होगी। मोदी पर निशाना साधते हुए उन्‍होंने कहा कि पीएम ने चुनाव से पहले कहा था कि गन्ना का बकाया 15 हजार करोड़ ब्याज के साथ मिलेगा, लेकिन अब तक कुछ नहीं मिला।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
सीधे सीएम, पीएम चुनने के खतरे
सीधे सीएम, पीएम चुनने के खतरे