उत्तर प्रदेश की राजनीति : अब योगी के समर्थन में उतरे मौर्य UttarPradesh Deputy
देश | उत्तर प्रदेश | ताजा पोस्ट| नया इंडिया| उत्तर प्रदेश की राजनीति : अब योगी के समर्थन में उतरे मौर्य UttarPradesh Deputy

अब योगी के समर्थन में उतरे मौर्य

UttarPradesh Deputy Chief Minister

लखनऊ | उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ( UttarPradesh Deputy Chief Minister Keshav Prasad Maurya ) का सुर बदल गया है। अब वे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की तारीफ करने लगे हैं। गौरतलब है कि एक दिन पहले मंगलवार को मुख्यमंत्री उनके घर गए थे और उनके घर पर ही पार्टी व संघ के पदाधिकारियों की बैठक हुई थी। इस दौरान योगी आदित्यनाथ ने केशव प्रसाद मौर्य के बेटे और बहू से मुलाकात की और नव दंपति को आशीर्वाद दिया।

Uttar Pradesh BJP Politics

यह भी पढ़ें: भारत-पाक सेना काबुल जाए?

इसके एक दिन बाद बुधवार को केशव प्रसाद मौर्य ने अपने उस बयान से किनारा कर लिया, जिसमें उन्होंने कहा था कि उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री का चेहरा कौन होगा, यह दिल्ली ही तय करेगा। इस बयान के बाद अटकलें लगाई जा रही थीं कि भाजपा में सब कुछ ठीक नहीं है। इस बीच मुख्यमंत्री मंगलवार को मौर्य के घर पहुंचे, जिसके बाद उनके सुर बदल गए हैं। मौर्य ने कहा है कि वे और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ साथ थे, साथ हैं और साथ रहेंगे। यदि बीच में कोई दीवार आई तो उसे गिरा देंगे।

SC on 12Th Board : SC ने 12वीं की परीक्षा के लिए अड़ी आंध्र प्रदेश की सराकर से कहा- यदि एक भी बच्चे को कुछ हुआ तो फिर…

केशव प्रसाद मौर्य ने मीडिया में आ रही उन तमाम खबरों को खारिज कर दिया, जिनमें यह बताया जा रहा था कि उनमें और योगी के बीच अनबन है। गौरतलब है कि मंगलवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ उनके घर पहुंचे थे। उनके साथ संघ के सर कार्यवाह दत्तात्रेय होसबाले, सह सर कार्यवाह कृष्ण गोपाल और दूसरे उप मुख्यमंत्री सीएम दिनेश शर्मा भी मौजूद थे। मौर्य के घर पर ही नेताओं ने भोजन किया और वहीं पर बैठक भी हुई।

ध्यान रहे इससे पहले करीब साढ़े चार साल में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ एक बार भी मौर्य के घर नहीं गए थे, जबकि दोनों का घर बहुत नजदीक है। तभी यह सवाल उठ रहा है कि चुनावी साल में ऐसा क्या हुआ कि मुख्यमंत्री को मौर्य के घर जाना पड़ा? मौर्य ( UttarPradesh Deputy Chief Minister ) ने पिछले दिनों मुख्यमंत्री का चेहरा प्रोजेक्ट किए जाने के मसले पर कहा था कि इसका फैसला चुनाव के बाद होगा। पार्टी के एक दो और नेताओं ने भी ऐसा ही बयान दिया था। तभी कहा जा रहा है कि संघ के पदाधिकारियों की पहल पर प्रदेश भाजपा के नेताओं की एकजुटता दिखाने के लिए मौर्य के घर पर सभी नेताओं को जुटाया गया।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
राज्यपालों के तबादले, नियुक्तियों की तैयारी
राज्यपालों के तबादले, नियुक्तियों की तैयारी