गौ संरक्षण के लिए छत्तीसगढ़ से प्रेरणा ले योगी: लल्लू - Naya India
देश | उत्तर प्रदेश | ताजा पोस्ट| नया इंडिया|

गौ संरक्षण के लिए छत्तीसगढ़ से प्रेरणा ले योगी: लल्लू

लखनऊ। उत्तर प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने गौ संरक्षण के लिये मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार से प्रेरणा लेने की सलाह दी है। लल्लू ने शनिवार को कहा कि योगी राज में उत्तर प्रदेश गौवंश की कब्रगाह बन गया है,वहीं किसान छुट्टा जानवरों से त्राहि-त्राहि कर रहे हैं। आवारा गौवंश किसानों की फसल को नुकसान पहुंचा रहे हैं। ग्रामीण लोगों की आय का जरिया रही पशु हाट खत्म हो गई हैं जबकि प्रदेश सरकार गोवंश संरक्षण के नाम पर खानापूर्ति कर किसानों की फसलें बर्बाद कर देने पर तुली है।

उन्होंने कहा कि गौ संरक्षण की उन्नत व्यवस्था के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को कांग्रेस शासित छत्तीसगढ़ से प्रेरणा लेनी चाहिये ताकि किसानो की मेहनत से तैयार की गयी फसल को बचाया जा सके। विधायक ने कहा, हम सरकार से मांग करते हैं कि जब तक गौशाला का बेहतर प्रबंधन नहीं हो पाता है तब तक सरकार छुट्टा पशुओं से पीड़ित किसानों को रखवाली भत्ता दे। उन्होंने कहा कि फसलों को अवारा पशुओं से बचाने के लिए शुरू की गयी गौ संरक्षण योजना सिर्फ कागजों तक ही सीमित रह गयी है क्योंकि जो बजट आवंटित किया गया वह इन आवारा पशुओं की संख्या के मुकाबले ऊंट के मुंह में जीरा साबित हो रहा है और जो बजट आवंटित है उसमें बन्दरबांट हो रहा है।

यह खबर भी पढ़ें:- योगी सरकार में भ्रष्टाचार का बोलबाला : लल्लू

इसका दुष्परिणाम यह है कि चारे और अन्य सुविधाओं के अभाव में बड़ी संख्या में आवारा पशु इन संरक्षण गृहों में आये दिन अपनी जान गंवा रहे हैं और यह संरक्षण गृह गौ वंशों के लिए जिन्दा कब्रगाह बन गये हैं। कांग्रेसी नेता ने कहा कि दो दिन पूर्व लखनऊ के बंथरा में रामचैरा गौशाला में बीमार गायों को जिन्दा हालत में ही कुत्ते नोच-नोचकर काट रहे थे। यह भयावह स्थिति सुलतानपुर, बांदा, वाराणसी, सीतापुर, खीरी, कानपुर, हरदोई, अयोध्या, प्रयागराज, अम्बेडकरनगर, बहराइच, गोण्डा, देवरिया, इटावा आदि लगभग प्रदेश के अधिकांश जिलों में है जहां गौशालाओं में व्याप्त अव्यवस्था, चारे की अनुपलब्धता और रखरखाव के अभाव में गौ वंश अपनी जान गंवा रहे हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *