Corona Crisis: रेमेडिसिविर के साथ ही अब बाजार से गायब हो रहा है ये इंजेक्शन - Naya India
कोविड-19 अपडेटस | ताजा पोस्ट | देश| नया इंडिया|

Corona Crisis: रेमेडिसिविर के साथ ही अब बाजार से गायब हो रहा है ये इंजेक्शन

New Delhi: देशभर में कोरोना की दूसरी लहर से हाहाकार मचा हुआ है. एक ओर जहां देश में कोरोना कहर बरसा रहा है तो वहीं दूसरी ओर कालाबाजारी में लगे लोग भी देश के लिए परेशानी बन रहे हैं. देश में ऐसे लोगों की कोई कमी नहीं है जो कोरोना काल को एक मौके की तरह ले रहे हैं. देश में जिस तरह रेमेडिसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी शुरू हुई उस तरह अब ब्लैक फंगस की बीमारी से लड़ने वाली Liposomal amphotericine B की भी कालाबाजारी शुरू हो गयी है. अब मरीजों के परिजन इस इंजेक्शन की तलाश में भटक रहे हैं लेकिन उन्हें यह आसानी से नहीं मिल रहा है. अगर यह मिल भी रहा है तो इसे ब्लैक मार्केट से खरीदना पड़ रहा है. देश के कई बड़े शहरों में इस इंजेक्शन की कमी देखी जा रही है. इस इंजेक्शन को बनाने वाली कंपनी ने कहा है कि हमने अबतक इसके प्रोडक्शन को बढ़ाने पर ध्यान नहीं दिया क्योंकि इसकी डिमांड उतनी ज्यादा नहीं थी. लेकिन हालके दिनों में ये इंजेक्शन एकदम से गायब हो रहे हैं.

अचानक से बढ़ गई डिमांड

कंपनी की ओर से कहा गया कि हमने कई बार इसके प्रोडक्शन कम करने पर भी विचार किया क्योंकि डिमांड कम थी अब इसकी डिमांड अचानक बढ़ गयी है. बाजार से इंजेक्शन कालाबाजारी के लिए गायब किये जा रहे हैं. इंजेक्शन के प्रोडक्शन में कई तरह की परेशानियां भी हैं. इसके रॉ मैटेरियल उपलब्ध होने में परेशानी है. इस वजह से अब बढ़ी हुई डिमांड के आधार पर इसका प्रोडक्शन नहीं हो रहा है. Liposomal amphotericine डिमांड को देखते हुए कालाबाजारी में शामिल लोगों ने बाजार में मौजूद इस इंजेक्शन को ब्लैक मार्केट में बेचना शुरू किया है.

इसे भी पढें- Nautapa 2021:  ‘नौतपा’ की गर्मी उतारेगी बारिष की बूंदे, इस बार नहीं दिखेगा ज्यादा असर

5 से 8 हजार है दाम, लेकिन अभी ले रहे हैं मनमाने दाम 

माना जा रहा है  कि कोरोना से जंग में ये दवा अहम भूमिका निभायेगी.उम्मीद की जा रही है कि अगले सप्ताह से इसे बाजार में उपलब्ध  करा लिया जाएगा.  ये दवा अभी तक बाजार में 5 से 8 हजार में अलग-अलग कंपनियों को मिल रही थी लेकिन अब ब्लैक मार्केट में इसकी कीमत का अंदाजा लगाना मुश्किल है क्योंकि शहर, जरूरत और ग्राहक के हिसाब से इसकी कीमत लगायी जा रही है. सरकार और प्रशासन को अब इस दवा की भी ब्लैक मार्केटिंग को रोकने के लिए तैयार रहना होगा.

इसे भी पढें-  दिल्ली सरकार ने बनाया Oxygen Concentrator Bank, केजरीवाल बोले- नए Corona केस घटकर 6500 पर आए

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *