सावधान! शादी के खर्चे के साथ अब कोरोना का जुर्माना भी भुगतना पड़ सकता है.. - Naya India
कोविड-19 अपडेटस | ताजा पोस्ट | देश | राजस्थान| नया इंडिया|

सावधान! शादी के खर्चे के साथ अब कोरोना का जुर्माना भी भुगतना पड़ सकता है..

JAIPUR: राजस्थान सहित सभी राज्यों में अनलॉक की प्रक्रिया शुरु हो चुकी है। गहलोत सरकार ने छूट के साथ कड़ें नियम भी लागू किए है। और साथ ही कहा है कि कोई भी कोरोना नियमों का उल्लघंन करता पाया गया तो उस सख्त कार्यवाही की जाएगी। किसी भी शादी-समारोह का ज्यादा ध्यान रखना है अन्यथा नियमों का उल्लघंन किए जाने पर कोरोना का जुर्माना सहना पड़ सकता है। मतलब कोई शादी में 11लोग से अधिक पाया गया तो उस पर 1 लाख का जुर्माना भी लगेगा। राज्य सरकार ने कोरोना संक्रमण के इस दौर में  विवाह समारोह में 11 से अधिक व्यक्तियों के शामिल होने पर भी अब 1 लाख रुपये की जुर्माना राशि तय कर दी है। इसके अलावा विवाह समारोह की सूचना नहीं देने पर भी संबंधित व्यक्ति पर 1 लाख रुपये का जुर्माना लगाया जाएगा। राज्य सरकार ने पूर्व में 3 मई को इस संबंध में जारी की गई अधिसूचना में संशोधन किया है। कोरोना के मामलें कम हुए है खत्म नहीं इसलिए हमें ज्यादा ध्यान रखना है। फिर से हम लापरवाही कर तीसरी लहर को बुलावा ना दे दे।

 

इसे भी पढ़ें लो भई कोरोना के भी बुरे दिन आ ही गए..अब तो पाकिस्तान ने भी कोरोना वैक्सीन बना ली

गृह विभाग ने बुधवार को अधिसूचना ज़ारी की

प्रदेश के गृह विभाग की ओर से जारी अधिसूचना के अनुसार जिस स्थान पर विवाह समारोह होगा यदि वहां कोरोना गाइडलाइन का पालन नहीं किया गया तो मैरिज गार्डन के मैनेजर और संबंधित व्यक्ति पर भी 1 लाख रुपये का जुर्माना लगाया जाएगा।  राज्य के गृह विभाग ने बुधवार को इसकी अधिसूचना जारी कर दी है। गृह विभाग की अधिसूचना के अनुसार, एसडीएम को विवाह समारोह की सूचना न देने, समारोह में मास्क न लगाने, सोशल डिस्टेंसिंग की पालना न करने, बैंड-बाजा या हलवाई के शामिल होने, बारात के आवागमन पर बस, ट्रैक्टर, ऑटो, टेम्पो और जीप का उपयोग करने पर भी 1 लाख रुपये का जुर्माना लगाया जाएगा।

तीसरी लहर का अंदेशा

वैसे तो कोरोना के मामलों में गिरावट देखी जा रही है। लेकिन खतरे को देखते हुए राज्य सरकार ने कड़े नियम लागू किए है। दरअसल, कोरोना की तीसरी लहर की आशंका के मद्देनजर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत नहीं चाहते कि प्रदेश में किसी प्रकार के अप्रिय हालात उत्‍पन्‍न हों। विशेषज्ञों ने अभी तीसरी लहर की आशंका भी जताई है। इसमें बच्चे सबसे अधिक प्रभावित हो सकते हैं। और बच्चों के लिए फिलहाल कोई वैक्सीन भी नहीं है। इसलिए बच्चों का ज्यादा डर लग रहा है। अब राज्य सरकार का मुख्य फोकस तीसरी लहर पर है। राज्य सरकार इसे हर हाल में रोकना चाहती है। इसलिए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत चाहते हैं कि कोरोना संक्रमण की गाइडलाइन की सख्ती के साथ पालन हो। मुख्यमंत्री बार-बार अपील करते रहे हैं कि कोरोना अभी समाप्त नहीं हुआ है, लिहाजा पूरी सावधानी बरती जाए। घर पर रहें और सुरक्षित रहें। जहां तक आवश्यक ना हो घर से बाहर ना जाएं।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

});